संतोष शुक्ल, मेरठ Coronavirus in india कोरोना वायरस को लेकर दुनियाभर में कई शोध किए जा रहे हैं और रोज ही वैज्ञानिकों द्वारा नए-नए दावे किए जा रहे हैं। ऐसी परिस्थिति में अब एक चौंकाने वाला खुलासा हुआ है, जिससे कोरोना वायरस के व्यवहार को लेकर विज्ञानी हैरत में हैं। नए शोध में पता चला है कि जिन क्षेत्रों में डेंगू वायरस ज्यादा संक्रमित रहा, वहां पर कोरोना से कम लोग ग्रस्त हुए हैं। डेंगू वायरस के प्रति शरीर में बनने वाली एंटीबाडी कोरोना वायरस को शरीर की कोशिकाओं में बढ़ने से रोकती है। मेरठ मेडिकल कालेज के विशेषज्ञों का आकलन है कि एनसीआर-मेरठ में कई क्षेत्रों में डेंगू का प्रकोप ज्यादा रहा है, वहां के लोगों में वायरल लोड कम मिलेगा। यानी अगर कोरोना हो भी गया तो ये मरीज एसिम्टोमेटिक (बिना लक्षण वाले) ही रहेंगे।

डेंगू की वैक्सीन कोरोना से कर सकती है सुरक्षा

मेडिकल कॉलेज के माइक्रोबायोलोजिस्ट डॉ. अमित गर्ग ने बताया कि हाल में सीएसआइआर (वैज्ञानिक तथा औद्योगिक अनुसंधान परिषद) के तहत इंडियन इंस्टीटयूट आफ केमिकल बायोलॉजी ने भारत में शोध किया था, जिसमें कहा गया कि डेंगू की एंटीबाडी कोरोना संक्रमण रोक सकती है। अब ब्राजील और यूके के विवि और इजरायल के क्लीनिकल इंफेक्सियस डिसीज की ताजी रिपोर्ट में भी यह बात सामने आई है।

भारत और ब्राजील डेंगू से सबसे ज्यादा प्रभावित

वैज्ञानिकों ने माना है कि भारत और ब्राजील जैसे देशों में बड़ी संख्या में लोग डेंगू के शिकार होते हैं, शायद इसीलिए यूरोपीय देशों की तुलना में मौत की दर कम रह गई। चिकित्सा विज्ञानी डेंगू और कोरोना के हाट स्पाट के आंकड़ों पर रिसर्च कर रहे हैं। यूके के वैज्ञानिकों ने कहा है कि डेंगू की वैक्सीन भी कोरोना संक्रमण का खतरा कम कर सकती है। खासकर, कोरोना की वैक्सीन आने तक इससे कुछ हद तक इम्युनिटी पाई जा सकती है। यह वैक्सीन सिर्फ बीस देशों में उपलब्ध है।

डेंगू की एंटीबाडी है तो ऐसी आ रही कोरोना रिपोर्ट

दुनियाभर के शोध में हैरान करने वाली बात सामने आई है कि अगर पहले कभी कोई व्यक्ति डेंगू का मरीज रहा है तो वो जांच में कोविड पॉजिटिव आ सकता है जबकि, यह गलत रिपोर्ट होती है। माइक्रोबायोलोजिस्ट डा. अमित गर्ग कहते हैं कि कोरोना और डेंगू दोनों वायरस एक दूसरे से पूरी तरह अलग हैं। कोरोना फ्लू की तरह सांस के जरिए, जबकि डेंगू एक मच्छर के काटने से होता है। दोनों के कुछ लक्षण मिलते हैं, लेकिन डेंगू में शरीर में लाल चकत्ते और तेज बुखार ज्यादा देखा जाता है। सीएमओ डा. राजकुमार ने बताया कि डेंगू के मरीजों की संख्या मेरठ में ज्यादा रही है, ऐसे में इसके संक्रमण के खास क्षेत्रों में कोविड के मरीजों का आंकड़ा तैयार किया जाएगा। यह देखना जरूरी है कि जिन्हें डेंगू हुआ, उन्हें कोविड हुआ या नहीं।

Posted By: Sandeep Chourey

  • Font Size
  • Close