मल्टीमीडिया डेस्क। दुनियाभर में कोरोना को लेकर हाहाकार मचा हुआ है। कोरोना वायरस अभी तक हजारों लोगों की जान ले चुका है और लाखों लोग इसके संक्रमण के शिकार हुए हैं। दुनिया के ज्यादातर देशों पर अभी तक इसका शिकंजा कस चुका है। इसकी वजह से करीब-करीब सभी देशों के आर्थिक हालत भी काफी खराब हुए हैं। अब सवाल यह उठता है किआखिर यह वायरस कहां से आया और कैसे पूरे विश्व में इसका मौत का साया मंडराने लगगा।

वेट मार्केट से फैलती है महामारी

कोरोना चीन वुहान शहर से निकल कर दुनियाभर में फैल गया। विशेषज्ञों का इस मामले में कहना है कि यह वायरस जानवरों से इंसान में आया है। इस बारे में अलग-अलग बातें की जाती है, लेकिन ज्यादातर विशेषज्ञ इसके लिए चमगादड़ को जिम्मेदार मानते हैं। चमगादड़ के मांस और उसके सूप से कोरोना दुनियाभर में फैल गया। चमगादड़ और इसके जैसे जीव-जन्तुओं का व्यापार वेट मार्केट में किया जाता है। दुनिया के करीब 10 देशों में वेट मार्केट चल रहे हैं और साथ ही बीमारियों को फैला रहे हैं।

वेट मार्केट में होता है वन्य जीवों का कारोबार

वेट मार्केट चीन के अलावा थाइलैंड, वियतनाम, कंबोडिया, मलेशिया, इंडोनेशिया, ताइवान, हॉन्ग कॉन्ग, सिंगापुर, साउथ कोरिया और जापान में चल रहे हैं। संयुक्त राष्ट्र की रिपोर्ट की माने तो इन वेट मार्केट में लाखों करोड़ डॉलर का सालाना कारोबार होता है। चीन के गुआंगडौंग में एक बड़ा वेट मार्केट है जहां सांप, अजगर, चमगादड़, गिरगिट, चूहे, कछुए, लोमड़ी के बच्चे, जंगली बिल्ली, मगरमच्छ, पैंगोलिन और चीते के बच्चे का मांस मिलता है।

इन वेट मार्केट में खुली दुकानों में जंतुओं को काटा जाता है और इनके खून, मांस और शरीर के दूसरे अंगों से वायरस फैलते हैं। इन बाजारों से निकले वायरस आसानी से इंसानी शरीर में प्रवेश कर जाते हैं और दुनियाभर में महामारी फैलाते हैं। 2002 में सार्स नाम की महामारी भी चीन के इसी शहर से फैली थी। उस वक्त चीन ने कुछ समय के लिए इस मार्केट को बंद कर दिया था, लेकिन बाद में वापस खोल दिया।

Posted By: Yogendra Sharma