जयपुर। राजस्थान के बहुचर्चित भंवरी देवी हत्याकांड में गवाही देने के लिए अमेरिका की डीएनए एक्सपर्ट गुरुवार को जोधपुर कोर्ट में नहीं पहुंचीं। कोर्ट ने अब समन जारी कर छह जुलाई को पेश होने को कहा है।

डीएनए एक्सपर्ट के कोर्ट में न पहुंचने से मामले की सुनवाई भी नहीं हो सकी। अमेरिका की फेडरल ब्यूरो ऑफ इन्वेस्टीगेशन (एफबआई) की डीएनए एक्सपर्ट अंबरकार गुरुवार को जोधपुर एससीएसटी कोर्ट में पेश होने वाली थीं, लेकिन वह नहीं पहुंचीं। डीएनए जांच रिपोर्ट के कोर्ट में पेश होने के बाद साफ होगा कि जो हड्डियां जोधपुर की राजीव गांधी लिफ्ट कैनाल में मिली थीं वो भंवरी की हैं या नहीं।

गौरतलब है कि करीब छह वर्ष पुराने भंवरी देवी हत्या कांड की जांच कर रही सीबीआई ने दावा किया था कि जो जली हुई हड्डियां कैनाल में मिली थीं वो भंवरी देवी की हैं। लेकिन सीएफएसएल इन हड्डियों से डीएनए निकालने में नाकाम रही थी। इसलिए, सैंपल एफबीआई को भेजे गए थे। इस मामले में तत्कालीन कांग्रेस सरकार के कैबिनेट मंत्री और विधायक सहित प्रमुख लोगों के जुड़े होने के से जांच सीबीआई को सौंप दी गई थी। सीबीआई की जांच के दौरान राज्य के तत्कालीन कैबिनेट मंत्री महिपाल मदेरणा, विधायक मलखान सिंह सहित सात अन्य लोगों को गिरफ्तार किया गया था।

Posted By:

fantasy cricket
fantasy cricket