Covid-19 Mask: कोरोना महामारी के खिलाफ जंग जारी है। सरकारें और डॉक्टर साफ कर चुके हैं कि जब तक वैक्सीन तैयार नहीं हो जाती, मास्क, सैनेटाइजर और फिजिकल डिस्टेंसिंग का पालन ही बचाव का तरीका है। ताजा खबर उन लोगों के लिए है, जो कपड़े का मास्क यूज कर रहे हैं। प्रदूषण बढ़ने पर कपड़े का मास्क वातावरण में मौजूद सूक्ष्म कणों को पूरी तरह नहीं रोक पाएगा। डॉक्टर कहते हैं कि N95 Mask ही प्रदूषण व कोरोना से बचाव करने में सक्षम होगा। अपोलो अस्पताल के इंटरनल मेडिसिन के विशेषज्ञ डॉ. सुरनजीत चटर्जी के अनुसार, पहले प्रदूषण बढ़ने पर चार-पांच प्रतिशत लोग ही मास्क का इस्तेमाल करते थे। Covid19 के कारण अब अधिकतर लोग मास्क लगा रहे हैं। कपड़े के मास्क से बड़े कण तो रोके जा सकते हैं, लेकिन सूक्ष्म कण नहीं रुक पाते। सही मायने में N-95 Mask ही वायरस से भी बचाव करता है। इसे एंटीवायरल मास्क भी कहा जाता है। इसलिए Covid संक्रमित लोगों के सीधे संपर्क में रहने वाले स्वास्थ्य कर्मियों व होम आइसोलेशन में रहकर इलाज करा रहे मरीजों की देखरेख करने वाले स्वजनों को N-95 मास्क लगाना जरूरी होता है।

कपड़े का मास्क उन लोगों को लगाने की सलाह दी जाती है जो सीधे किसी संक्रमित व्यक्ति के संपर्क में नहीं हैं। कपड़े का मास्क लगाए रहने से खांसी या छींक आने पर ड्रॉपलेट बाहर नहीं आते। इस वजह से दूसरे लोगों की भी सुरक्षा होती है। N95 मास्क की उपलब्धता भी समस्या है।

मणिपाल अस्पताल के श्वांस रोग विशेषज्ञ डॉ. पुनीत खन्ना ने कहा कि कपड़े का मास्क कुछ हद तक प्रदूषण से बचाव करता है, लेकिन पीएम-2.5 व उससे सूक्ष्म कणों को नहीं रोक पाता। इसलिए सूक्ष्म कण सांस के जरिये फेफड़े में पहुंच सकते हैं। इससे बचाव का सबसे बेहतर माध्यम एन-95 मास्क ही है। दूसरी बात यह है कि एन-95 मास्क भी चेहरे पर टाइट होना चाहिए, ताकि कहीं से धूलकण अंदर प्रवेश न करने पाए।

कोरोना से जंग जीतने के लिए नींद और संगीत भी जरूरी

मरीजों को आठ घंटे की नींद लेने को कहा जाता है। दिन में एक से दो घंटे संगीत भी सुनाया जाता है, जो उनके जल्द ठीक होने में मदद करता है। मरीजों को सुबह और शाम गर्म पानी का गरारा कराया जाता है, जो गले में जमे संक्रमण को खत्म करने में मदद करता है। मरीजों को खुश रखने के लिए उनके बीच घरेलू खेल कराए जाते हैं, जिससे उनका मानसिक तनाव दूर रहता है। इस तरह दो से तीन सप्ताह में कोरोना संक्रमित मरीज स्वस्थ हो जाता है।

Posted By: Arvind Dubey

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

ipl 2020
ipl 2020