Cyclone Mandus। बंगाल की खाड़ी से उठा 'मैंडूस' चक्रवात (Cyclone Mandus) तेजी से तमिलनाडु, आंध्र प्रदेश और पुडुचेरी की ओर बढ़ रहा है और यह चक्रवाती तूफान आज चेन्नई के पास तट से टकरा सकता है। मौसम विभाग ने जानकारी दी है कि 9 दिसंबर की आधी रात को यह तूफान चेन्नई के पास तट से गुजर सकता है और इस दौरान तमिलनाडु के तटीय इलाकों में तेज हवा के साथ भारी बारिश होने की संभावना है। मौसम विभाग ने तमिलनाडु में तीन जिलों में रेड अलर्ट जारी किया है। चक्रवाती तूफान 'मैंडूस' के कारण नागपट्टिनम त्रिची में तेज़ हवाएं चल रही हैं और समुद्र में ऊंची लहरें उठ रही हैं। तूफान मैंडूस कभी भी तट से टकरा सकता है। चक्रवाती तूफान 'मैंडूस' के प्रभाव से चेन्नई में बारिश हो रही है। संदीप कुमार (सब इंस्पेक्टर और NDRF कमांडर) ने बताया, "चक्रवात मैंडूस से निपटने के लिए हम पूरी तरह से तैयार हैं, हमारे पास सभी उपकरण हैं। मेरे टीम के 2 सब इंस्पेक्टर और 24 जवान यहां मौजूद हैं।"

Image

Image

इन शहरों में बंद रहेंगे स्कूल-कॉलेज

चक्रवात तूफानी 'मैंडूस' के पूर्वानुमान के आधार पर चेन्नई, कुड्डालोर, विल्लुपुरम, कांचीपुरम के सभी स्कूलों और कॉलेजों को 9 दिसंबर को बंद रखने का फैसला लिया गया है। राज्य सरकार ने इस संबंध में आदेश जारी कर दिए हैं। गौरतलब है कि तमिलनाडु के इन शहरों में बीते कई दिनों से मौसम में बदलाव आया है और जन-जीवन प्रभावित हुआ है। इससे पहले मुथुपेट दरगाह में "कंदूरी (चंदन बर्तन) विझा" के कारण 5 दिसंबर को तिरुवरूर जिले के स्कूल बंद थे। 7 दिसंबर को तमिलनाडु के तिरुवरुर, तंजावुर जिलों में स्कूल बंद थे।

बंगाल की खाड़ी में बना कम दबाव का क्षेत्र

भारतीय मौसम विभाग ने जानकारी दी है कि बंगाल की खाड़ी के ऊपर बना कम दबाव का क्षेत्र अब गहरे दबाव में बदल गया है और चक्रवाती तूफान 'मैंडूस' कराईकल से लगभग 420 किमी दूर है और यह तूफान 09 दिसंबर की आधी रात को उत्तर तमिलनाडु, दक्षिण आंध्र प्रदेश, पुडुचेरी और श्रीहरिकोटा को पार कर सकता है।

भारी बारिश का अलर्ट जारी

IMD ने 10 दिसंबर को उत्तर तमिलनाडु और रायलसीमा और दक्षिण आंध्र प्रदेश में भारी बारिश का अलर्ट जारी किया है। वहीं 11 दिसंबर को उत्तर आंतरिक तमिलनाडु, आंध्र प्रदेश के तटीय इलाके, रायलसीमा, आंतरिक कर्नाटक में भारी बारिश की चेतावनी जारी की है। ग्रेटर चेन्नई कॉरपोरेशन कमिश्नर ने चक्रवात तूफान को देखते हुए एहतियाती कदम उठाने के संबंध में अधिकारियों से चर्चा की।

5000 से ज्यादा राहत शिविर खोले

तूफान की आशंका वाले जिलों में 5,000 से ज्यादा राहत शिविर खोले हैं। शिविर में रह रहे लोगों को भोजन, पेयजल और स्वास्थ्य सहित सभी बुनियादी सुविधाएं दी गई है। वहीं निगरानी के लिए 24 घंटे एक नियंत्रण कक्ष भी खोला गया है, जो अगले दो दिनों तक भारी बारिश तथा उसके कारण होने वाले असर पर नजर रखेगा।

Posted By: Sandeep Chourey

  • Font Size
  • Close