देव आनंद बॉलीवुड के जाने-माने सितारों में से एक हैं। 6 दशक से ज्यादा लंबे अपने करियर में उन्होंने कई शानदार फिल्में की। आज देव आनंद हमारे बीच नहीं हैं, पर उनके ड्राइवर ने उनके जीवन से जुड़ी कई अहम बातें साझा की हैं। प्रेम दुबे शुरुआत में देव आनंद के बेटे सुनील आनंद की गाड़ी चलाते थे। बाद में उन्होंने देव आनंद के लिए काम करना शुरू कर दिया। उन्होंने 30 साल तक पूरी ईमानदारी से अपना काम किया। साल 2011 में जब देव आनंद की मौत हुई थी तब उन्हें यकीन नहीं हो रहा था कि यह सुपरस्टार हमें छोड़कर जा चुका है।

देव आनंद के जीवन का आखिरी दिन याद करते हुए प्रेम दुबे ने रेडिफ वेबसाइट से कहा "मोनाजी ने मुझे सुबह जल्दी आने के लिए कहा था। उन्हें चर्च जाना था, लेकिन सुबह मेरी पत्नी ने बताया कि देव आनंद जी अब हमारे बीच नहीं हैं। मैने उससे कहा कि ऐसा नहीं हो सकता, पर यह सच था। मैने तुरंत अपने घर से रिक्शा पकड़ा और उनके घर पहुंचा। मोनाजी अपने कमरे में थी। वो पूरे दिन नीचे नहीं उतरी। वहां पर बड़ी मात्रा में कैमरामैन और मीडियाकर्मी थे।"

बीमार नहीं थे देव आनंद

देव आनंद के ड्राइवर ने आगे बताया "देवसाब कहीं से भी बीमार नहीं थे। मैने आखिरी बार उन्हें 17 नवंबर को देखा था, जब मैने उन्हें एयरपोर्ट छोड़ा था। वो अपने बेटे सुनील के साथ लंदन जा रहे थे। वो पूरी तरह से फिट थे और चल रहे थे। मैनें उनसे व्हीलचेयर के लिए भी पूछा था, पर उन्होंने मना कर दिया था।"

दोपहर का खाना नहीं खाते थे देव आनंद

प्रेम दुबे ने आगे कहा "हम रोजाना 11 या 12 बजे के करीब घर से निकलते थे। लेकिन, यदि उस दिन शूट होता था तो हम सुबह 9 बजे घर से निकलते थे। आफिस पहुंचकर वो सबसे पहले अखबार पढ़ते थे। उन्होंने कभी दोपहर का खाना नहीं खाया। पर, रात का खाना 7 बजे ही खाते थे। उनका टिफिन घर से आता था। इसमें सिर्फ थोड़ी सी भाजी और एक रोटी होती थी। रात 8 बजे वो एक ग्लास गर्म पानी पीते थे। रात में 9 से 10 के करीब हम ऑफिस से निकल जाते थे। घर में वो सूप पीते थे और कुछ फल खाते थे। नास्ते में उन्हें आमलेट, दूध और केला पसंद था।"

शुरुआती दिनों में पसंद था पराठा

शुरुआती दिनों में देव आनंद को पराठा, गोभी, मेथी और बैगन का भरता खूब पसंद था। अंगूर और पॉपकॉर्न भी पसंदीदा चीजों में शामिल थे। बाद के दिनों में उन्होंने सिर्फ रोटी, पीपीता और केला ही खाया। वो कभी भी मीठा नहीं खाते थे। वो शराब और सिगरेट भी नहीं पीते थे।

प्रेम के पास आज भी रखे हैं देव आनंद के कपड़े

प्रेम दुबे ने बताया कि कभी कभार देव आनंद उन्हें अपने कपड़े दिया करते थे। उन्होंने अपनी बेल्ट भी दिखाई, जिसे देव आनंद ने हरे रामा हरे कृष्णा फिल्म में पहना था। साथ ही उन्होंने वह शर्ट भी दिखाई, जिसे देव आनंद ने जानेमन फिल्म में पहना था। उन्हें पीला, भूरा और काला रंग बहुत पसंद था। कभी कभार वो लाल रंग के कपड़े भी पहनते थे। उनके पास 800 जैकेट का कलेक्शन था।

देव आनंद के ड्राइवर प्रेम श्रीपथ दुबे ने यह भी स्वीकार किया कि 30 सालों तक देव आनंद के लिए काम करने के बाद उनके जीवन में भी कई बदलाव आए हैं। उन्होंने भी देव आनंद की तरह बातें करनी शुरू कर दी हैं।

Posted By: Arvind Dubey

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

 
Show More Tags