मुंबई, ओमप्रकाश तिवारी। महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री देवेंद्र फड़नवीस को अगले लोकसभा चुनाव में राज्य में अधिकतम सीटें जीतने के अलावा एक और मुश्किल लक्ष्य पूरा करना पड़ सकता है। यह लक्ष्य है केरल में भाजपा का खाता खुलवाने का।

भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह ने लोकसभा चुनाव में भाजपा को 350 से अधिक सीटें जिताने का लक्ष्य निर्धारित किया है। इनमें ऐसी 130 सीटें भी शामिल हैं, जो पिछले लोकसभा चुनाव में भाजपा जीतते-जीतते रह गई थी। ऐसी सीटों पर जीत हासिल करने के लिए शाह ने विशेष रणनीति अभी से बनानी शुरू कर दी है। जिसके तहत दक्षिण भारत के ऐसे राज्यों में भाजपा को सफलता दिलाना शामिल है, जहां अब तक भाजपा का कभी खाता नहीं खुल सका है।

ऐसे राज्यों पर ध्यान केंद्रित करते हुए पार्टी ने अलग-अलग राज्यों की जिम्मेदारी उठाने के लिए नेताओं का समूह तैयार किया है। भाजपा सूत्रों के अनुसार, पार्टी ने सबसे मुश्किल माने जानेवाले केरल के लिए गठित समूह का नेतृत्व महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री देवेंद्र फड़नवीस को सौंपा है। इसी प्रकार आंध्र प्रदेश के लिए गठित समूह में राज्य के शिक्षा मंत्री विनोद तावड़े और कर्नाटक के लिए गठित समूह की जिम्मेदारी मुंबई भाजपा अध्यक्ष आशीष शेलार को सौंपे जाने की सूचना है।

बता दें कि अमित शाह ने महाराष्ट्र भाजपा को सभी 48 सीटें जीतने का लक्ष्य दिया है। पिछले लोकसभा चुनाव में भाजपा का शिवसेना के साथ गठबंधन था। तब वह 24 सीटों पर लड़कर 23 पर जीतने में कामयाब रही। उसकी सहयोगी शिवसेना ने 20 सीटों में से 18 पर कब्जा किया। लेकिन विधानसभा चुनाव से दोनों पार्टियों के रिश्ते खराब हो चुके हैं। अगले लोकसभा चुनाव में दोनों पार्टियों की एकता की संभावना क्षीण है। ऐसी स्थिति में भाजपा को चतुष्कोणीय संघर्ष में भी कम से कम 28 सीटें जिताने की जिम्मेदारी भी फड़नवीस को निभानी होगी।