मल्टीमीडिया डेस्क। सोमवार रात करीब पौने ग्यारह बजे भारत में उस समय हलचल बढ़ गई जब वॉशिंगटन से खबर आई कि अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प कश्मीर मसला हल करने के लिए भारत और पाकिस्तान के बीच मध्यस्थता करने को तैयार हैं। अमेरिका दौरे पर गए पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान से मुलाकात के दौरान ट्रम्प ने यह बात कही। इतना ही नहीं, ट्रम्प ने यह भी कहा कि दो हफ्ते पहले जी-20 समिट के दौरान जापान में जब उनकी पीएम मोदी से बात हुई थी, तब भी मोदी ने उनसे कश्मीर पर मध्यस्थता करने को कहा था।

ट्रम्प की मोदी पर कही यह बात भारत में किसी को हजम नहीं हुई। सोशल मीडिया पर यूजर्स को गुस्सा फूट पड़ा। बड़ी तादाद में यूजर्स ने लिखा कि मोदी सरकार ट्रम्प को जवाब दे। आखिरकार ट्रम्प के बयान के 83 मिनट बाद भारतीय विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता रवीश कुमार ने ट्वीट किया कि पीएम मोदी ने ट्रम्प के सामने ऐसी कोई गुजारिश नहीं की। कश्मीर हो या कोई भी मुद्दा द्विपक्षीय वार्ता से ही हल होगा।

ट्रम्प का बयान भारतीय समयानुसार रात 10.39 मिनट पर आया था और विदेश मंत्रालय ने ठीक 12 बजकर 02 मिनट पर जवाब दे दिया। पढ़िए इन 83 मिनट के दौरान कैसे-कैसे सोशल मीडिया कमेंट्स आए -

थरूर ने भी दिया मोदी सरकार का साथ

यूं तो शशि थरूर विपक्षी पार्टी के सांसद हैं, लेकिन इस मुद्दे पर उन्होंने मोदी सरकार का साथ दिया। थरूर ने लिखा - ट्रम्प को पता नहीं है कि वे क्या बोल रहे हैं। हो सकता है तब मोदी से मीटिंग के दौरान वे समझ नहीं पाए या उन्हें गलत ब्रीफ किया गया होगा। विदेश मंत्रालय स्पष्ट करे कि दिल्ली ने ऐसी कोई बात नहीं कही।

वहीं नेशनल कॉन्फ्रेंस के नेता उमर अब्दुला ने पहले तो सवाल उठाया कि क्या अब भारत सरकार ट्रम्प को झूठा कहेगी या यह कश्मीर मुद्दे पर तीसरे पक्ष की मध्यस्थता पर भारत के रुख में बदलाव है? हालांकि उमर ने अगले ट्वीट में यह भी लिखा कि निजीतौर पर मुझे नहीं लगता कि ट्रम्प को पता होगा कि वे क्या बोल रहे हैं।

पत्रकार सुमित अवस्थी ने ट्वीट किया - अमेरिकी राष्ट्रपति ट्रंम्प को या तो समझ कम आता है या फिर वो जानबूझकर झूठ बोल रहे हैं! कश्मीर पर विवाद हो सकता है “लेकिन कश्मीर भारत का हिस्सा था, हिस्सा है और हिस्सा रहेगा!” जो हिस्सा हमारा है उसपर मध्यस्थता कैसी! भारत का कोई पीएम किसी से भी मध्यस्थता की अपील कर ही नहीं सकता!

जितेंद्र कुमार ने लिखा - मोदी जी,ये डोनाल्ड ट्रम्प कौन है? आप इसके साथ ऐसे बात करते हैं क्या ? नहीं तो इसी वक्त जवाब दीजीए उसको, मध्यस्थता के बारे में।

श्रीष त्रिपाठी के मुताबिक- ये डोनाल्ड ट्रम्प छतिया गया है क्या?? इतिहास गवाह है ये अमेरिका किसी का कभी नहीं हुआ है, ये अपने फायदे के लिये थूक कर चाटता रहा है।

यह भी पढ़ें: 'मोदी ने कश्मीर मसले पर मुझसे मध्यस्थता के लिए कहा', ट्रम्प के इस दावे को भारत ने किया सिरे से खारिज

टीपी गुप्ता ने ट्वीट किया - परेशान न हो डोनाल्ड ट्रम्प, हम पाक अधिकृत कश्मीर भी भारत में शामिल करेंगे ।

एक यूजर ने लिखा- भारत सरकार की ओर से कड़ा और स्पष्ट संदेश दिया जाना चाहिए... बिना डोनाल्ड ट्रम्प और अमेरिका की हैसियत की परवाह किए।

भारत की ओर से जवाब दिए जाने के बाद विवेकनंद सिंह ने ट्वटी किया - मसला-ए-कश्मीर को हल करने के लिए डोनाल्ड ट्रम्प के चौधरी बनने की ख्वाहिश, असल में kashmir के बहाने अपनी दुकान चलाने की है। भारत के विदेश मंत्रालय ने साफ कर दिया है कि ट्रम्प ने पीएम NarendraModi के हवाले से जो बात कही है, वह गलत है।

वहीं राकेश कुमार लिखा - डोनाल्ड ट्रम्प से ये उम्मीद नहीं थी।

यहां भी क्लिक करें

23 जुलाई को कर्क राशि में प्रवेश करेगा शुक्र, 12 राशियों पर इस तरह पड़ेगा इसका असर

बिजली महादेव : जहां शिवलिंग पर हर बारह साल में गिरती है बिजली

रेल यात्री ध्यान दें, 139 छोड़ बंद होंगे सारे हेल्पलाइन नंबर, अब मिलेगी यह सुविधा

 

Posted By: Arvind Dubey

Assembly elections 2021
elections 2022
  • Font Size
  • Close