नई दिल्ली। प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) ने चंडीगढ़ के पॉश इलाके पंचकूला में नियमों को ताक पर रखकर किए गए प्लॉट आवंटन मामले में हरियाणा के पूर्व मुख्यमंत्री भूपिंदर सिंह हुड्डा के खिलाफ मनी लांड्रिंग का केस दर्ज किया है। मामले में कांग्रेस से जुड़ी कंपनी एसोसिएटेड जर्नल लिमिटेड (एजेएल) के अधिकारियों और इसके अखबार नेशनल हेराल्ड के प्रकाशकों समेत कुछ अन्य लोगों को भी आरोपी बनाया गया है। ईडी ने यह कदम हरियाणा के राज्य सतर्कता ब्यूरो द्वारा गत मई में इस संबंध में दर्ज की गई एफआइआर पर संज्ञान लेते हुए उठाया है।

ईडी ने 2005 में प्लॉट आवंटन के वक्त राज्य के मुख्यमंत्री रहे हुड्डा और हरियाणा शहरी विकास प्राधिकरण (हुडा) के चार अधिकारियों पर धोखाधड़ी और भ्रष्टाचार का मुकदमा दर्ज किया है। ईडी से जुड़े अधिकारियों का कहना है कि जल्द ही उन लोगों को समन जारी किए जाएंगे जिनके नाम एफआइआर में हैं। हुड्डा ने इसे राजनीतिक प्रतिशोध देते हुए कहा है कि उन्होंने कुछ भी गलत नहीं किया।

क्या है मामला

चंडीगढ़ के पॉश इलाके पंचकूला के सेक्टर-6 में स्थित 3360 वर्ग मीटर का प्लॉट पहली बार 1982 में एजेएल को आवंटित किया गया था। 1996 में इसकी लीज खत्म होने पर बंसीलाल के नेतृत्व वाली तत्कालीन हरियाणा विकास पार्टी सरकार ने इसे सरकारी कब्जे में ले लिया। 2005 में सत्ता में लौटने पर कांग्रेस सरकार ने प्लॉट फिर एजेएल को आवंटित कर दिया। सतर्कता ब्यूरो का आरोप है कि प्लॉट दोबारा एजेएल को आवंटित करने के बजाय उसे खुली निविदा के जरिये बेचा जाना चाहिए था। लेकिन, तत्कालीन हुडा चेयरमैन और अधिकारियों ने ऐसा नहीं किया, जिससे राज्य के खजाने को बड़ा नुकसान हुआ।

Posted By:

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस