लोहरदगा। झारखंड में एक बार फिर डायन-बिसाही के नाम पर हत्या की दर्दनाक वारदात सामने आई है। लोहरदगा के सेरेंगदाग थाना क्षेत्र के जुड़नी गांव में मंगलवार देर शाम ग्रामीणों की भीड़ ने वृद्ध दंपती की लाठी-डंडे से पीट- पीटकर हत्या कर दी। हत्याकांड मृतक दंपती के पुत्र और उसकी तीन बेटियों के सामने हुआ। ग्रामीणों ने शवों को गांव में ही फेंक दिया। घटना के बाद मृतक का बेटा और उसकी तीनों बेटियां खौफ से गांव छोड़ कहीं और चले गए हैं।

घटना की जानकारी पुलिस को बुधवार को मिली। घटनास्थल नक्सल प्रभावित इलाके में है। एसपी प्रियदर्शी आलोक ने घटना की पुष्टि की है। एसपी ने कहा है कि वारदात में 20 लोगों के नाम सामने आए हैं। पुलिस इनकी जांच कर रही है। शीघ्र ही आरोपित लोग पुलिस की गिरफ्त में होंगे।

लोहरदगा के सेरेंगदाग थाना क्षेत्र के जुड़नी गांव में एक हफ्ते पहले एक बच्चे की मौत हो गई थी। ग्रामीणों को इस बात का संदेह था कि जुड़नी गांव निवासी जोखन लोहरा के पुत्र हरकु लोहरा (55) और उसकी पत्नी हिरी लोहरा (50) जादू-टोना कर गांव में लोगों की जान ले रहे हैं।

मंगलवार को गांव में पंचायत बैठाई गई। पूरे गांव के लोगों ने हरकु और हिरी पर डायन-बिसाही का आरोप लगाते हुए लाठी-डंडे और लात-घूसों से पीट-पीट कर दोनों को मार डाला। इसके बाद ग्रामीणों ने मृतक के पुत्र फूलदेव और उसकी बहनों को धमकी दी कि किसी को घटना की जानकारी दी तो उन्हें गांव में नहीं रहने देंगे। फूलदेव और उसकी बहनें रात के अंधेरे में घर से भागे। किसी तरह उन्होंने पुलिस को सूचना दी।