साहिबगंज। झारखंड के लीला गांव के समीप अपराधियों ने गुरुवार की देर रात आदिवासी वृद्ध महिला तालामय मुर्मू (65) की गला दबाकर हत्या कर दी और इसके बाद उसकी दोनों आंखें भी निकाल ली। इतना ही नहीं कान को भी काट डाला। पिछले माह इसी थाना क्षेत्र में अपराधियों ने घर में घुसकर एक वृद्ध महिला की हत्या कर दी थी और उसकी आंखें निकाल ली थी।

महिला के पुत्र प्रेमचंद मरांडी व ताला मरांडी ने पुलिस को बताया कि उनकी मां गुरुवार की शाम सोहराय मनाने अपनी बेटी के गांव आसनबोना जाने के लिए घर से निकली थी। इसी बीच उनकी हत्या कर दी गई। प्रेमचंद ने बताया कि उसकी या उसकी मां की किसी से कोई दुश्मनी नहीं थी।

जादू-टोने के शक में ग्रामीण को यातना

गया। विज्ञान के युग में भी बिहार के लोग अंधविश्वास से नाता जोड़े हुए हैं। शुक्रवार को गया जिले के पिरवां गांव में एक ग्रामीण को इसकी सजा भुगतनी पड़ी।

गांव वालों ने एक ओझा (झाड़-फूंक करने वाला) के कहने पर ग्रामीण को दंडित करने के लिए पंचायत बुलाई और तालिबान की तर्ज पर फैसला सुनाते हुए उसका सिर मुड़वाया, उसे जूते की माला पहनाकर मत्थे पर चूने का टीका लगाकर गाजे-बाजे के साथ गांव में घुमाया गया। उन पर दस हजार रुपये का अर्थदंड भी लगाया गया। पुलिस ने इस मामले में 19 ग्रामीणों को नामजद किया है।

Posted By: