EPFO: कर्मचारी भविष्य निधि संगठन (EPFO) में लोगों के निवेश किए हुए 12 हजार करोड़ से ज्यादा रुपए कई कंपनियों में अटक गए हैं। EPFO इस फंड की वसूली के लिए क्रिमिनल एक्शन समेत तमाम कानूनी विकल्पों पर विचार कर रहा है।

EPFO ने 12800 करोड़ रुपए ऐसी कंपनियों के डेट सिक्योरिटीज में लगाए हुए हैं, जहां उसके पैसे फंस गए हैं। इन डेट सिक्योरिटीज की पिछले कुछ महीनों में रेटिंग भी डाउनग्रेड हुई है। इन कंपनियों में रिलायंस कैपिटल, यस बैंक, डीएचएफएल, इंडिया बुल्स, आईडीएफसी और आईएल एंड एफएस शामिल हैं। सेंट्रल बोर्ड ऑफ ट्रस्टीज के तीन सदस्यों ने बताया कि इन कंपनियों में जोखिम भरे निवेश की स्टेटस रिपोर्ट पर विस्तार से चर्चा की गई और कार्य योजना बनाई गई। रिकवरी के प्रयास प्रत्येक कंपनी के लिए प्राथमिकता के आधार पर अलग से किए जाएंगे।

बोर्ड ने EPFO के निवेशों के बारे में चिंता को चिन्हित किया और इसे जल्दी से जल्दी ठीक करने पर जोर दिया है। इसके लिए सभी संभावित कानूनी विकल्पों पर विचार किया जा रहा है। इसके लिए सभी नियमों को ध्यान में रखकर कानूनी एक्शन भी लिया जा सकता है। इंडियन एक्सप्रेस की रिपोर्ट के अनुसार, उन कंपनियों के खिलाफ आपराधिक कार्रवाई होने की संभावना है, जो जान-बूझकर डिफॉल्ट करती हुई पाई जाएंगी।

EPFO ने रिलायंस कैपिटल में करीब 2500 करोड़, यस बैंक में करीब 4300 करोड़, इंडिया बुल्स में करीब 2500 करोड़, आईडीएफसी में करीब 1700 करोड़, डीएचएफएल में करीब 1300 करोड़ और आईएल एंड एफएस में करीब 574 करोड़ रुपए निवेश किया हुआ है।

Posted By: Kiran K Waikar

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

ipl 2020
ipl 2020