Explained: मानसून के मौसम की शुरुआत के साथ डेंगू और मलेरिया के केस बढ़ रहे हैं। कोविड-19 महामारी लोगों में थोड़ी उलझन है, क्योंकि इन तीनों बीमारियों के लक्षण एक समान हैं। मरीज को बुखार, सिर दर्द, बदन दर्द और थकान होती है। एक वायरस कोरोना और डेंगू दोनों के लिए जिम्मेदार है, जबकि प्रोटोजाओ मलेरिया रोग का कारण है। सभी स्थितियों में विशिष्ट समान लक्षण होते हैं, जो तीनों के बीच अंतर करने में भ्रमित कर सकते हैं।

कोविड-19, डेंगू और मलेरिया से कैसे अलग हैं?

डॉक्टर संदीप बी गोर, निदेशक-इमरजेंसी चिकित्सा फोर्टिस अस्पताल, मुलुंड ने कहा कि कोविड 19 के महत्वपूर्ण लक्षणों में एक स्वाद और गंध का नुकसान है। यह लक्षण डेंगू और मलेरिया के केस में नहीं है। उन्होंने कहा कि कोरोना एक सांस की बीमारी है। सीने में दर्द और सांस की तकलीफ आमतौर पर मेलिया या डेंगू से पीड़ित रोगी में देखा नहीं जाता। हालांकि वह जोर देकर कहते हैं कि डॉक्टर के पास जाना और जल्द अपना टेस्ट करवाना सबसे अच्छा है।

डॉक्टर सुधा मेनन, आंतरिक चिकित्सा निदेशक, फोर्टिस अस्पताल बताती हैं, 'कोविड के लक्षणों में खांसी, सर्दी, गले में खराश, गंध, स्वाद की कमी और सांस फूलना शामिल है। डेंगू के कारण जी मिचलाना, कड़वा स्वाद, तेज बुखार, आंखों में दर्द और रैशेज हो सकते हैं। जबकि मलेरिया के कारण ठंड लगना, तेज बुखार और रुक-रुक कर पसीना आता है।'

कोविड-19, डेंगू और मलेरिया कैसे फैल सकता है?

कोविड-19 हवा से फैलता है, जबकि डेंगू और मलेरिया मच्छरों के काटने से होता है। कोरोना संक्रमण मुख्य रूप से सांस की बूंदों से फैसला है। जो बात करते, छींकते और खांसते समय निकलते हैं। दूसरी ओर डेंगू चार अलग प्रकार के वायरस के कारण होता है। यह किसी शख्स को एडीज मच्छर काटने पर संक्रमित करता है।

उनका इलाज कैसे किया जाता है?

डॉ. परितोष बघेल, सीनियर सलाहकार- आंतरिक चिकित्सा, एसएल रहेजा अस्पताल ने बताया कि कोविड-19 के लिए एंटीवायरल दवाई का उपयोग किया जाता है। उन्होंने कहा कि डेंगू पीड़ित को प्लेटलेट ट्रांसफ्यूजन की आवश्यकता होती है। जबकि मलेरिया के मरीजों को मलेरिया रोधी दवाओं की जरूरत होती है। जरूरत पड़ने पर उन्हें प्लेटलेट ट्रांसफ्यूजन की आवश्यकता पड़ती है। तीनों बीमारियों का इलाज काफी मुश्किल होता है।

मानसून में संक्रमण से बचने के टिप्स-

कोविड-19 से सुरक्षित रहने के लिए:

- सुरक्षा प्रोटोकॉल का पालन करें।

- घर से बाहर मास्क पहनकर ही निकलें।

- शारीरिक दूरी बनाए रखें।

डेंगू और मलेरिया से बचाव के लिए:

- घर या आसपास पानी जमा नहीं होने दें।

- बाहर जाते समय मच्छर भगाने वाली क्रीम लगाएं।

- बाल्टियों, गमलों या घर में पानी जमा न होने दें। यह मच्छरों के प्रजनन स्थल का काम करता है।

- अपनी प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाने के लिए फलों और ताजा सब्जियों का सेवन करें।

Posted By: Shailendra Kumar