जम्मू-कश्मीर में पिछले 24 घंटों के दौरान सीमा पर गोलाबारी व आतंकी हमले में सेना के पांच जवान शहीद हुए हैं। पाकिस्तान के बढ़ते दुस्साहस को देखते हुए सीमा पर सेना व सुरक्षाबल हाई अलर्ट पर हैं। वहीं, 28 नवंबर से शुरू हो रहे डीडीसी चुनाव को देखते हुए सैन्य अधिकारी एलओसी और अंदरूनी इलाकों में स्थिति पर नजर बनाए हुए हैं। पाकिस्तानी सेना ने नियंत्रण रेखा (एलओसी) पर शुक्रवार को लगातार दूसरे दिन भी भारी गोलाबारी जारी रखते हुए राजौरी जिले के सुंदरबनी और जम्मू के अखनूर सेक्टर के साथ सटे केरी बट्टल इलाके को निशाना बनाया। पाकिस्तानी गोलाबारी का जवाब देते हुए सेना के दो जवान बलिदान हो गए। जबकि एक अन्य घायल हुआ है। भारतीय सेना ने भी पाकिस्तानी की चौकियों को भारी नुकसान पहुंचाया है। कई पाकिस्तानी सैनिकों के घायल होने की भी सूचना है। शहीदों की पहचान नायक प्रेम बहादुर खत्री निवासी महाराजगंज, उत्तर प्रदेश और राइफलमैन सुखबीर सिह निवासी तरनतारन, पंजाब के रूप में हुई है। पाकिस्तान सैनिकों ने गत गुरुवार को पुंछ में एलओसी पर भी भारी गोलाबारी की थी, जिसमें सेना की 16 गढ़वाल राइफल के सूबेदार स्वतंत्र सिह शहीद हो गए थे और एक स्थानीय नागरिक भी घायल हुआ था।

गुरुवार दोपहर को श्रीनगर में आतंकी हमले में सेना की क्विक रिएक्शन टीम के दो जवान सिपाही रतन सिह व सिपाही देशमुख यश वीरगति को प्राप्त हुए थे। जम्मू के पीआरओ डिफेंस लेफ्टिनेंट कर्नल देवेन्द्र आनंद ने बताया कि पाकिस्तानी गोलाबारी के बाद भारतीय सेना की ओर से भी त्वरित जवाबी कार्रवाई की गई। सूत्रों के अनुसार, भारत की कार्रवाई में पाकिस्तान को भी भारी नुकसान हुआ है।

Posted By: Navodit Saktawat

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

 
Show More Tags