गाड़ियों के लिए वीवीआईपी नंबर (VVIP) नंबर खरीदने का शौक तो कई लोगों को होता है लेकिन अब कंपनी ने फर्म के नाम रजिस्टर्ड की गई एक स्कूटी के नंबर के लिए 18 लाख रुपए से ज्यादा खर्च कर दिए। ये राशि इतनी है जितने में कंपनी अपने लिए 30 नई स्कूटी खरीद सकती थी। यह दिलचस्प वाकया हिमाचल प्रदेश के कांगड़ा जिले का है। यहां के शाहपुर उपमंडल नागरिक कार्यालय में एक रजिस्ट्रेशन नंबर की नीलामी 18 लाख से ज्यादा में हुई है। यह नंबर हरियाणा के करनाल की कंपनी ने ऑनलाइन बोली लगाकर हासिल किया है। आमतौर पर इस तरह के VVIP नंबर काफी महंगी गाड़ियों के लिए खरीदे जाते हैं, कई बार ऐसी गाड़ियों की कीमत करोड़ों में होती है, लेकिन एक स्कूटी के नंबर के लिए फर्म द्वारा इतना पैसा खर्च किए जाने पर लोग आश्चर्यचकित हो गए हैं।

इस नंबर के लिए लगी थी बोली

करनाल की कंपनी राहुल पैम प्राइवेट लिमिटेड ने शाहपुर में कंपनी के लिए 60 हजार रुपए में स्कूटी खरीदी थी। कंपनी स्कूटी के लिए HP-90-0009 नंबर लेना चाहती थी। इस नंबर के लिए कंपनी ऑनलाइन बिडिंग में शामिल हुई। बोली 20 जून को शुरू हुई थी और 26 जून को समाप्त हुई। एक हफ्ते चली इस बिडिंग में कंपनी ने स्कूटी के नंबर के लिए सबसे ज्यादा 18 लाख 22 हजार 500 रुपए की बोली लगाई। कंपनी ने मंगलवार को तय समयसीमा में परिवहन विभाग के दफ्तर में राशि जमा कर यह VVIP नंबर अपने नाम कर लिया।

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक इस नंबर को लेकर वाहन मालिकों में खासी दिलचस्पी दिखी थी। कुछ लोगों ने इस नंबर के लिए 10 से 15 लाख रुपए तक की बोली लगाई थी। इस बिडिंग में 0001 नंबर को छोड़कर अन्य नंबरों की बोली लगी थी, यह बोली 75 हजार रुपए से शुरू हुई थी।

Posted By: Neeraj Vyas

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

जीतेगा भारत हारेगा कोरोना
जीतेगा भारत हारेगा कोरोना