प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी 7 शिखर सम्मेलन में शनिवार और रविवार के दिन कुल तीन सत्रों को संबोधित करेंगे। इनमें से पहला सत्र आज ही आयोजित होगा। ब्रिटेन में हो रहे दुनिया के सात सबसे अमीर देशों के शिखर सम्मेलन में भारत, ऑस्ट्रेलिया, दक्षिण कोरिया और दक्षिण अफ्रीका को आमंत्रित किया गया है।

यह दूसरा मौका होगा जब प्रधानमंत्री मोदी जी-7 की बैठक में शामिल होंगे। इससे पहले साल 2019 में फ्रांस की अध्यक्षता में हुए जी-7 के शिखर सम्मेलन में भी भारत को आमंत्रित किया गया था। पिछले महीने ही विदेश मंत्रालय ने यह कहा था कि देश में कोरोना वायरस की स्थिति के कारण प्रधानमंत्री मोदी शिखर सम्मेलन में भाग लेने के लिए ब्रिटेन नहीं जा जाएंगे।

शुक्रवार को शुरू हुआ G7 सम्मेलन

जी-7 में कनाडा, फ्रांस, जर्मनी, इटली, जापान, अमेरिका और ब्रिटेन के साथ यूरोपीय संघ भी शामिल है। शुक्रवार को औपचारिक रूप से ग्रुप ऑफ सेवन शिखर सम्मेलन की शुरुआत हुई है। इस सम्मेलन के जरिए दुनिया की सबसे उन्नत अर्थव्यवस्थाओं के नेता वैश्विक कोरोनावायरस महामारी के प्रकोप के बाद पहली बार एक मंच पर एकत्र हुए हैं।

इन खास पहलुओं पर होगी चर्चा

शिखर सम्मेलन में इस साल का विषय ‘बेहतर पुननिर्माण’ है। ब्रिटेन ने अपनी अध्यक्षता के हिसाब से चार प्राथमिक क्षेत्र तय किए हैं। इनमें भविष्य में आने वाली महामारियों से निपटना, कोरोना महामारी से वैश्विक 'रिकवरी' का नेतृत्व करना, जलवायु परिवर्तन का समाधान, निष्पक्ष और मुक्त व्यापार का समर्थन, भावी समृद्धि को बढ़ावा देना और साझा मूल्यों व खुले समाजों का समर्थन करना शामिल है।

वैक्सीन के 1 अरब टीके दान करेंगे G7

G 7 में शामिल देशों ने दुनिया को वैक्सीन की एक अरब खुराक दान करने की घोषणा की है। इसमें से 50 करोड़ खुराक अमेरिका देगा। इसका ऐलान अमेरिकी जो बाइडन ने गुरुवार को किया था। इसके अलावा दस करोड़ खुराक ब्रिटेन देगा। बाकी की डोज अन्य देश उपलब्ध कराएंगे। कोरोना प्रभावित गरीब देशों के लिए यह राहत भरा संदेश है।

Posted By: Arvind Dubey

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

 
Show More Tags