चेन्नई। वक्त के बदलने का असर अब मंदिरों पर भी पड़ने लगा है। यही वजह है कि दक्षिण के मंदिर में अब प्रसाद के तौर पर मिलने वाली चीज में जबरदस्त बदलाव देखने को मिल रहा है। चेन्नई पड़ापेई मंदिर में परंपरागत प्रसाद की जगह बर्गर और ब्राउनी का इस्तेमाल किया जा रहा है।

इतना ही नहीं यहां पर मिलने वाले इस आधुनिक प्रसाद इसको बनाने की तारीख, एक्सपायरी की तारीख समेत सभी चीजों को दर्शाया गया है। मंदिर के प्रसाद के तौर पर यह बिल्कुल नया प्रयोग है। यहां पर प्रसाद को लेने के लिए एक वैंडिंग मशीन भी गलाई गई है, जहां से इसके लिए पैकेट को कलेक्ट किया जा सकता है।

मंदिर में होने वाले इस बदलाव में एक हर्बल ओंकोलॉजिस्‍अ के श्री श्रीधर मदद कर रहे हैं। उन्होंने ही इस तरह की सलाह मंदिर को दी थी कि प्रसाद में इस तरह का बदलाव किया जाए। उन्हें लगा कि मंदिर के किचन में बनाई गई ऐसी कुछ भी चीज जो हर तरह से सुरक्षित हो और सही हो, उसे प्रसाद के तौर पर इस्तेमाल किया जा सकता है। उन्होंने कहा कि यह परंपरागत प्रसाद से बिल्‍कुल अगल है।

पिछले दिनों प्रसाद के तौर पर मंदिर में केक भी यहां आने वाले भक्तों को दिया गया था। इसके अलावा मंदिर ने प्रसाद के लिए डाेर टू डोर सर्विस भी शुरू की है। यह बदलाव लोगों को बेहद पसंद भी आ रहा है। खासकर उन लोगों को जो अपनी बढ़ती उम्र के चलते मंदिर नहीं आ पाते हैं, वह घर बैठे मंदिर का प्रसाद ग्रहण कर पाते हैं।

Posted By:

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

ipl 2020
ipl 2020