जम्मू। कांग्रेस के वरिष्ठ नेता और पूर्व मुख्यमंत्री गुलाम नबी आजाद शुक्रवार को जम्मू-कश्मीर के आएंगे। प्रदेश से आर्टिकल 370 हटाए जाने के बाद यह पहला मौका है जब आजाद कश्मीर का दौरा करेंगे। जानकारी के मुताबिक, वे चार दिन यहां रहेंगे और अलग-अलग जिलों में लोगों से मिलेंगे। इससे पहले 3 बार उन्होंने जम्मू-कश्मीर आने की कोशिश की थी, लेकिन पुलिस-प्रशासन ने एयरपोर्ट से ही लौटा दिया था।

सुप्रीम कोर्ट की दखल के बाद मिली अनुमति

जानकारी के मुताबिक, गुलामनबी आजाद शुक्रवार दोपहर श्रीनगर एयरपोर्ट पहुंचेंगे। इसके बाद अगले चार दिन में श्रीनगर, अनंतनाग और बारामुला में लोगों से मिलेंगे। आजाद का दौरा सुप्रीम कोर्ट की दखल के बाद संभव हो सका है।

सीजेआई रंजन गगोई ने सोमवार को जारी अपने आदेश में कहा था कि आजाद को श्रीनगर, जम्मू, बारामुला और अनंतनाग में आने की इजाजत दी जाए। आजाद की ओर से दायर याचिका में कहा गया था कि वह श्रीनगर में जाकर लोगों से मिलना चाहते हैं। उनकी समस्याओं को जानना चाहते हैं। आजाद ने सुप्रीम कोर्ट से उन्हें अपने घरवालों और परिजनों से भी मिलने की इजाजत देने को कहा। इसके अलावा सामाजिक हालात जानने की भी इजाजत मांगी थी।

वहीं, आजाद के दौरे को लेकर प्रदेश कांग्रेस के कार्यकर्ता उत्साहित हैं। अनुच्छेद 370 हटने के बाद कांग्रेस के किसी वरिष्ठ नेता का जम्मू-कश्मीर में यह पहला दौरा है। पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी भी श्रीनगर में आए थे लेकिन उन्हें श्रीनगर एयरपोर्ट से वापस भेज दिया गया था।

बता दें, केंद्र सरका के अनुसार, आर्टिकल 370 हटाए जाने के बाद से जम्मू-कश्मीर में शांति है, वहीं विपक्ष का आरोप है कि सरकार सच्चाई छुपा रही है।