दुमका। जहां एक तरफ Lockdown के बीच पूरा देश घरों में बंद है और लोगों को एकदूसरे से दूर रहने के लिए कहा जा रहा है वहीं झारखंड के दुमका में सामुहिक दुष्कर्म का एक सनसनीखेज मामला सामने आया है। जहां एक तरफ लोग कोरोना के कहर से डरे हुए हैं वहीं झारखंड में हैवानों ने इस विपरित समय में भी इस बेरहमी को अंजाम दे दिया। यहां एक युवती के साथ उसकी दोस्त ने अपने साथियों संग मिलकर सामुहिक दुष्कर्म किया और फिर उसे जंगल में छोड़ दिया। लड़की किसी तरह सुबह रेंगकर सड़क पर आई तब जाकर घटना की जानकारी पुलिस तक पहुंची।

जानकारी के अनुसार, दुमका में लॉकडाउन के दौरान गांव लौट रही 16 साल की लड़की के साथ समुहिक दुष्कर्म का मामला सामने आया है। इस नाबालिग के साथ 10 लोगों ने सामुहिक दुष्कर्म किया। घटना 24 मार्च की है जब गोपीकांदर इलाके के गड़ियापानी जंगल में इसे अंजाम दिया गया। किसी तरह पुलिस तक पहुंची छात्रा ने अपनी शिकायत में बताया कि उसने मदद के लिए अपने दोस्त को बुलाया था, लेकिन उसने मदद की बजाय अपने दोस्त के साथ मिलकर दुष्कर्म किया और फिर उनके 8 और दोस्त पहुंच गए। सारी रात वो जंगल में बेहोश पड़ी रही और सुबह किसी तरह सड़क तक पहुंची।

दुमका के पुलिस अधीक्षक वाई एस रमेश ने बताया कि दुष्कर्म पीड़िता के बयान के आधार पर आरोपियों के खिलाफ विभिन्न धाराओं के केस दर्ज कर लिया गया है और आरोपियों की तलाश में छापेमारी की जा रही है।

एसपी रमेश के अनुसार, युवती ने अपने बयान में बताया है कि वो 24 मार्च की दोपहर अपने दोस्तों के साथ दुमका से अपने गांव के लिए जा रही थी। रास्ते में दोनों ने उसे गोपीकांदर के कारूडीह मोड पर उतार दिया और वहां से घर जाने के लिए निकल गई। इसके बाद उसने अपने गांव के एक साथी को बुलाया। जो शख्स उसे लेने पहुंचा था उसके साथ एक और व्यक्ति था और उन्होंने अपनी गांड़ी जंगल की तरफ यह कहते हुए मोड़ दी कि रास्ते में जांच चल रही है।

युवती ने आगे कहा कि जंगल में दोनों ने उसके साथ दुष्कर्म किया और फिर उनके अन्य दोस्त भी आ गए जिन्होंने बारी-बारी से उसके साथ दुष्कर्म कर मरने के लिए जंगल में ही छोड़ दिया। किसी तरह वो बाहर आई और लोगों ने उसे घर पहुंचाया जिसके बाद पुलिस में शिकायत दर्ज हो सकी। फिलहाल पुलिस आरोपियों की तलाश कर रही है।

Posted By: Arvind Dubey

fantasy cricket
fantasy cricket