Happy Republic Day 2021: गणतंत्र दिवस (Republic Day) भारत का एक राष्ट्रीय पर्व है। जिसे हर साल 26 जनवरी को मनाया जाता है। इस दिन साल 1950 को भारत सरकार अधिनियम 1935 को हटाकर भारत का संविधान लागू किया गया। एक स्वतंत्र गणराज्य बनने और कानून स्थापित करने संविधान को 26 नवंबर 1949 को भारतीय संविधान सभा ने अपनाया था। जबकि 26 जनवरी 1950 को लोकतांत्रिक सरकार प्रणाली के साथ लागू किया गया। इसके बाद से हर साल इस दिन गणतंत्र दिवस (Republic Day) मनाया जाता है। इस दिन देश में राष्ट्रीय अवकाश भी रहता है। देश के प्रथम राष्ट्रपति डॉक्टर राजेंद्र प्रसाद ने 21 तोपों की सलामी के साथ राष्ट्र ध्वज को फहराकर भारत को पूर्ण गणतंत्र घोषित किया। इस मौके पर उन्होंने देश के नागरिकों को विशेष संदेश में कहा था कि हमें आज के दिन के शांतिपूर्ण एक ऐसे सपने को साकार करने के लिए खुद को समर्पित करना चाहिए। जिसने स्वतंत्रता संग्राम के कई नेताओं और सैनिकों को अपने देश में एक वर्गहीन, सहकारी, मुक्त और प्रसन्नचित्त समाज की स्थापना के सपने को साकार करने की प्रेरणा मिली। हमें इस दिन यह याद रखना चाहिए कि आज का दिवस आनंद मनाने की तुलना में समर्पण का दिन है। श्रमिकों, कामगारों परिश्रमियों और विचारकों को पूरी तरह से स्वतंत्र, खुश और सांस्कृतिक बनाने के भव्य कार्य के प्रति समर्पण करने का दिन है।

आइए जानते हैं गणतंत्र दिवस (Republic Day) का इतिहास और इसे जुड़ी रोचक बातें

गणतंत्र दिवस का इतिहास

31 दिसंबर 1929 को भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस की लाहौर में एक बैठक हुई थी। जिसकी अध्यक्षता पंडित जवाहर लाल नेहरू ने की थी। उस बैठक में मौजूद लोगों ने 26 जनवरी को स्वतंत्रता दिवस के रूप में मानने के लिए शपथ ली थी, ताकि अंग्रेजों से पूर्ण आजादी के सपने पूरे हो सके। लाहौर सत्र में नागरिक अवज्ञा आंदोलन का मार्ग प्रशस्त किया गया। यह निर्णय लिया गया कि 26 जनवरी 1930 को पूर्ण स्वराज दिवस मनाया जाएगा। कई भारतीय राजनीतिक दलों और क्रांतिकारियों ने सम्मान और गर्व से इस दिन को मनाने के लिए हामी भरी। भारतीय संविधान सभा की पहली बैठक 9 दिसंबर 1946 को हुई। जिसका गठन भारतीय नेताओं और ब्रिटिश कैबिनेट मिशन के बीच हुआ। इस सभा का उद्देश्य देश को एक संविधान प्रदान करना था। कई सिफारिशों पर चर्चा, विवाद और संविधान को अंतिम रूप देने से पहले कई बार संशोधन किया गया। आखिरकार तीन साल बाद 26 नवंबर 1949 को आधिकारिक रूप से अपनाया गया। 26 जनवरी 1950 को भारतीय संविधान प्रभावी हुआ।

गणतंत्र दिवस से जुड़ी कुछ रोचक बातें

- 26 जनवरी 1950 को सुबह 10 बजकर 18 मिनट पर भारत का संविधान लागू हुआ था।

- गणतंत्र दिवस (Republic Day) के दिन राष्ट्रगान के दौरान 21 तोपों की सलामी दी जाती है।

- 1955 में पहली बार राजपथ परेड में पाकिस्तान के पहले गर्वनर जनरल मलिक गुलाम मोहम्मद मुख्य अतिथि थे।

- पहले गणतंत्र दिवस की परेड मेजर ध्यानचंद स्टेडियम में हुई थी।

- भारत का संविधान दुनिया का सबसे बड़ा लिखित संविधान है। जिसे दिन में पढ़ा नहीं जा सकता।

- भारतीय संविधान में 395 अनुच्छेद और 8 अनुसूचियां हैं।

- गणतंत्र दिवस के दिन अशोक चक्र और कीर्ति चक्र जैसे सम्मान दिए जाते हैं।

- साल 1950 को पहले गणतंत्र दिवस (Republic Day) पर इंडोनेशिया के राष्ट्रपति सुकर्णो मुख्य मेहमान थे।

- अबतक साल 1951, 1952, 1953, 1956, 1957, 1959, 1962, 1964, 1966,1967, 1970 में कोई विदेश मेहमान नहीं आए थे। इस साल 2021 में भी कोरोना वायरस के कारण कोई मुख्य अतिथि गणतंत्र दिवस पर मेहमान नहीं होंगे।

- साल 2014 के गणतंत्र दिवस (Republic Day) पर महाराष्ट्र सरकार के प्रोटोकॉल विभाग ने पहली बार मुंबई के मरीन ड्राईव पर परेड आयोजित की थी।

Posted By: Navodit Saktawat

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

 
Show More Tags