श्रीनगर। भारतीय सुरक्षाबलों के आक्रामक रवैये और सख्त कार्रवाई के चलते बौखलाए हिजबुल मुजाहिदीन ने दक्षिण कश्मीर में अपने ऑपरेशनल कमांडर रियाज नायकू उर्फ जुबैर उल इस्लाम को हटा दिया है। सुरक्षाबलों ने रियाज नायकू पर 12 लाख रुपए का इनाम घोषित कर रखा है। हिजबुल ने रियाज नायकू की जगह कमान अब नवीद बाबू उर्फ बाबर आजम को सौंपी है। आतंकी नवीद भी सुरक्षाबलों की हिट लिस्ट में है। सूत्रों ने बताया कि पाक सेना ने हिजबुल को कश्मीर में आतंकी गतिविधियों में तेजी लाने और दक्षिण कश्मीर में खास जगहों पर बड़ा हमला करने के लिए कहा था, लेकिन रियाज आतंक फैलाने में नाकाम रहा। बताया जा रहा है कि वह बाहरी लोगों पर हमला करने का पक्षधर नहीं था। इसी वजह से उससे ऑपरेशन कमांडर की जिम्मेदारी वापस ली गई है। एक अन्य सूचना के अनुसार रियाज को हिजबुल पूरे कश्मीर की कमान सौंपने जा रहा है। इसलिए दक्षिण कश्मीर का जिम्मा नवीद को सौंपा गया है।

सूत्रों के मुताबिक साल 2017 में पुलिस की नौकरी छोड़ आतंकी बने नवीद ने सरहद पार आकाओं के हुक्म पर बाहरी लोगों को निशाना बनाया है। हालांकि वह रियाज की तरह पढ़ा लिखा नहीं है, लेकिन पांच साल की पुलिस की नौकरी और आतंकरोधी अभियानों में हिस्सा लेने के कारण वह पुलिस के तौर-तरीके अच्छी तरह जानता है और समझता है। अवंतीपोरा का रहने वाला रियाज करीब सात साल से आतंकी संगठन न में सक्रिय है। आतंकी बनने से पहले वह स्कूल में अध्यापक की नौकरी करता था।

हिजबुल सरगना सलाहुद्दीन ने रियाज को दक्षिण कश्मीर में नए लड़कों की भर्ती का जिम्मा सौंपा था। सूत्रों के मुताबिक रियाज दो माह में तीन बार अपने गांव में आया और अवंतीपोरा और उससे सटी कुछ मस्जिदों में भाषण देकर नौजवानों को बंदूक उठाने के लिए उकसा रहा था। पाकिस्तान सेना के निर्देश के बाद सलाहुद्दीन ने कुछ दिनों में रावलपिडी से गुलाम कश्मीर की राजधानी मुजफ्फराबाद के कई चक्कर लगाए हैं। इसके अलावा उड़ी, नौगाम और मच्छल सेक्टर में नियंत्रण रेखा के पार गुलाम कश्मीर में स्थित हिजबुल के लांचिग पैड पर भी गया है।

Posted By: Yogendra Sharma