शत्रुघ्न शर्मा अहमदाबाद। निसंतान माता पिता को संतान का लालच देकर नडियाद की 3 महिलाओं ने मानव तस्करी का ऐसा जाल रचा जिसमें बच्चे को जन्म देने वाली खुद माताएं भी शामिल हो गई। गुजरात पुलिस ने 3 महिलाओं सहित एक अन्य महिला को भी अपने बच्चे का सौदा करने के आरोप में गिरफ्तार किया है। गुजरात पुलिस के स्पेशल ऑपरेशन ग्रुप में मध्य गुजरात के आणंद जिले के नडियाद कस्बे में फल फूल रहे मानव तस्करी के एक रैकेट का पर्दाफाश किया है। सेरोगेसी हॉस्पिटल में काम करने वाली नडियाद की माया बेन डाभला ने इसी कस्बे की मोनिका शाह तथा पुष्पा पटेलिया के साथ मिलकर अन्य राज्य की गरीब परिवार की जरूरतमंद महिलाओं को नडियाद लाकर सेरोगेसी तकनीक से गर्भवती बनाकर उनके बच्चों को ऊंचे दाम पर बेचने का एक सोचा समझा रैकेट बना लिया था। स्पेशल ऑपरेशन ग्रुप पुलिस कुछ जवान नकली ग्राहक बनकर इन महिलाओं से संपर्क करते हैं।

मायाबेन इनसे नागपुर महाराष्ट्र की राधिका मैडम नाम की एक महिला के बच्चे को 6 लाख रुपए में बेचने का सौदा करती है। पुलिस के जवान निसंतान बता कर मायाबेन से यह सौदा करने को तैयार हो जाते हैं। मायाबेन उसकी साथी आरोपी महिलाओं ने राधिका से उसके बच्चे का डेढ़ लाख रुपए में पहले ही सौदा कर लिया था। इसी बच्चे को उन्होंने छह लाख रुपए में बेचने का तय करने के बाद मिलना तय किया। पुलिस ने इसके बहाने माया और उसकी साथी महिलाओं तक पहुंच कर उन्हें धर दबोचा।

स्पेशल ऑपरेशन ग्रुप के अधिकारी बताते हैं कि इस समूह की आरोपी महिलाएं इससे पहले भी कई बच्चों का सौदा कर चुकी है। सेरोगेसी के तरीके से बच्चे को जन्म दिला कर गुजरात के बाहर गोवा जयपुर रायपुर जैसे शहरों में हमको ऊंचे दाम पर निसंतान दंपत्ति को भेज दिया करती हैं। पुलिस को आशंका है कि यह मानव तस्करी का रैकेट अंतर राज्य तथा अंतरराष्ट्रीय भी हो सकता है हाल पुलिस मामले की जांच कर रही है।

Posted By: Navodit Saktawat