श्रावस्ती। उत्तर प्रदेश के श्रावस्ती में एक दिन दहलाने वाली घटना सामने आई है। यहां तीन तलाक के बाद पुलिस की समझाइश के बाद ससुराल में रहने गई एक 22 साल की महिला को परिवार ने जिंदा जला दिया। ससुरालवालों ने पीड़िता द्वारा उसके पति की तीन तलाक के बाद पुलिस में शिकायत करने से नाराज होकर ये खौफनाक कदम उठाया। पुलिस ने पीड़िता की शिकायत पर FIR दर्ज किए बिना ही उसे घर भेज दिया था। आग में ज्यादा झुलसने की वजह से पीड़िता की मौत हो गई।

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक पीड़िता को उसके पति ने बालों से पकड़ा और परिवार के अन्य लोगों ने उस पर केरोसीन डालकर आग लगा दी। ये सब कुछ पीड़िता की 5 साल की मासूम बच्ची के सामने घटा। ये घटना शुक्रवार को होना बताया जा रहा है।

पीड़िता के परिवार वालों के मुताबिक सईदा का पति मुंबई में रहता है। उसने फोन पर ही उसे तीन तलाक दे दिया था। सईदा ने उसे वापस बुलाने के लिए तीन तलाक की शिकायत पुलिस को की थी। पुलिस ने महिला को पति के साथ ही रहने की समझाइश देते हुए दोनों को 15 अगस्त को बुलाया था।

पीड़िता की पांच साल की बच्ची के बयान के मुताबिक उसके पिता ने उसकी मां को बालों से पकड़ा जबकि दो चाचियों ने उस पर केरोसीन डाल दिया और उसके दादा-दादी ने उसकी मां को आग लगा दी।

पुलिस ने अब इस मामले में पति और परिवार के खिलाफ दहेज प्रताड़ना और हत्या का केस दर्ज किया है। वहीं सईदा के शव को पोस्टमार्टम के लिए भेजा गया है। अब तक किसी की गिरफ्तारी नहीं हो सकी है। इस मामले में आला अधिकारी ये भी देखेंगे कि आखिर पुलिस जवानों द्वारा रिपोर्ट क्यों नहीं लिखी गई थी।