मल्‍टीमीडिया डेस्‍क। Hyderabad Doctor Murder Case : हैदराबाद में महिला वेटरनरी डॉक्‍टर से हुई दरिंदगी को लेकर अवाम में आक्रोश है। लोगों का गुस्‍सा सोशल मीडिया से लेकर धरातल तक हर जगह नज़र आ रहा है। अब इसमें कुछ नया सुनने को मिल रहा है। सोशल मीडिया पर इस तरह की खबरें चल रही हैं कि इस मामले को लेकर भारत बंद किया जाने वाला है। इसके लिए अलग-अलग तारीखें बताई जा रही हैं। कोई 5 दिसंबर बता रहा है, कोई 6 तो कोई 10 दिसबंर की तारीख बता रहा है। हालांकि इनमें से किसी भी तारीख की पुष्टि नहीं है। हैदराबाद में दो दिन पहले महिलाओं ने सड़कों पर विरोध स्‍वरूप रैली निकाली थी। ट्विटर पर गोविंद हिंदू नाम के एक शख्‍स ने एक मुहिम छेड़ी है। इसमें वे आगामी 10 दिसंबर को भारत बंद का लोगों से आह्वान कर रहे हैं। उनका कहना है कि इस दिन सभी लोग मिलकर सामने आए हैं, अभियान से जुड़ें और हैदराबाद मामले के आरोपियों के लिए फांसी की सजा की मांग करें।

इन 3 मांगों को लेकर अभियान

गोविंद हिंदू ने अपने ट्विटर हैंडल पर अपील करते हुए कहा है कि, बेटियोंं के लिए सड़क पर आओ। हमारी तीन मांगे हैंं।

1- बलात्कार पर फाँसी की सजा। 2-

3 महीने के अंदर सजा मिले ।

3- नाबालिग पर भी फाँसी की सजा लागू हो।

आक्रामक होकर लड़ने का समय आया

उत्‍सव नाम के एक यूजर्स ने ट्विटर पर पोस्‍ट में लिखा है कि,

कैंडल मार्च

प्रोटेस्‍ट

डिबेट्स

ऑल डन। सब हो चुका।

और अब भारत बंद! मुझे अभी भी लगता है कि आरोपियों को फांसी पर टांगना सॉल्‍युशन नहीं है। इससे कुछ अधिक बदलाव नहीं आएगा। हम कुछ बड़ा ही चाहते हैं। और अगर ऐसा नहीं हुआ तो मैं अगली बार चुनावों में सभी से अपील करुंगा कि वोटिंग ना करें। हम आक्रामक होकर लड़ने का समय आ गया है।

रोहन ने लिखा,

आप भारत बंद करना चाहते हैं ताकि सारे दुष्‍कर्मी अपने काम धंधे से समय निकाल सकें और कुछ अनपेक्षित कर सकें और भविष्‍य के लिए कोई दूसरा प्‍लान बना सकें?

अनिल कन्‍नौजिया ने लिखा, *भारत बंद भारत बंद भारत बन्द**5 दिसम्बर* को स्वेच्छिक भारत बंद। बहुत कर लिए तुम लोगो ने अपने स्वार्थ के लिए भारत बंद अब अपनी बहन बेटी के लिए भारत बंद का समर्थन करो सरकार को जगाओ, देश की बेटी को न्याय दिलाओ,दरिन्दों को खुलेआम फाँसी दिलाओ।

दोषियों को जानवर कहना जानवरों का अपमान

सैयद मुस्लिम मूसवी ने बेहद भावुक अंदाज में लिखा है कि

ना केवल 10 दिसंबर, बल्कि भारत बंद तब तक रहना चाहिये जब तक कि न्‍याय नहीं हो जाता। दुष्‍कर्म कोई मज़ाक नहीं है। दुष्‍कर्मियों को जानवरों की संज्ञा मत दीजिये। उन्‍हें पशु भी नहीं समझा जाना चाहिये। उन्‍हें जानवर कहना तो सारे जानवरों का ही अपमान है।

कई लोग नहीं कर रहे समर्थन, कह रहे ऐसी बात

हालांक‍ि 10 दिसंबर को भारत बंद का आह्वान किया जा रहा है लेकिन कई लोग इसका समर्थन नहीं कर रहे हैं। लोगों का कहना है यह सब कई बार हो चुका है। ऐसी कवायद की कोई सार्थकता नहीं है।

- जितेंद्र मिश्रा ने लिखा है कि सच कहूं तो मैं किसी #BharatBand का समर्थन नहीं करता हूं। मेरा अनुरोध है कि बलात्कार जैसे जघन्य अपराध पर अंकुश लगे। घटना के बाद अगले दिन या 6 महीने में आप तो अपराधी को पकड़ लेंगे लेकिन जो व्‍यक्ति इसका पीडि़त रहा है, उसके लिए तो जीवन पहले जैसा कतई नहीं रहेगा।

Shashank Sachan

Bharat band krne sekya hoga kya nyay mil jaega katai nahi uper se logo ko problems ka samna krna padhga band me Isse accha sidhe jail jaker un 4 napunsak logo ko maar maar k maar doto koi fayda bhi Sarkar ko kuch fark nahi padhne wala band se jb tk koi thos kadam na uthaye public

शमशेर मेनन ने कहा,

Bharat Band Karne SE Kuch Fayda Nhi Hai Or Khudka Hee Nuksaan Hai Or Gareebo Ko Takleef Badh Sakti .

Rapiest K Liye Uski Saza Ki Maang Kare Or Strong Kanoon Ki Maang Kare Jisse Ladkiya safe Mehsus Kar Sake.

ज्‍योस्‍ना श्रीवास्‍तव ने लिखा,

कुछ नहीं होगा इससे , बहुत दुःख है कि वो मुजरिम आज भी साँसे ले रहे हैं बिना किसी टॉर्चर के ,खाना खा रहे ...I don't think this bharat band would have any impact, its seriously disturbing and sad that the accused are still breathing eating food without any torcher .

इंदौर में कैंडल मार्च निकाला, दोषियों के लिए फांसी की मांग

हैदराबाद में घटित हत्याकांड पूरे देश की सुर्खियों में है। मामले को लेकर लोगों में काफी आक्रोश है। इंदौर में पीडि़ता के लिए न्याय की मांग को लेकर स्थानीय नागरिक सड़कों पर उतर आए। गुरुवार को न्याय की मांग को लेकर स्थानीय नागरिकों ने कैंडल मार्च निकाला वही पालीवाल ब्राह्मण समाज, मेनारिया ब्राह्मण समाज, पालीवाल वाणी समूह इंदौर ने दोषियों की जल्द कड़ी से कड़ी सजा दिए जाने की मांग की। सभी ओर से एक स्वर सुनाई दे रहा है कि डॉक्टर के हत्यारे को सरेआम फांसी की सजा होना चाहिए। जानकारी सुनील पालीवाल और अनिल बागोरा ने दी।

Posted By: Navodit Saktawat

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

ipl 2020
ipl 2020