प्रणय उपाध्याय, नई दिल्ली। देश के सबसे महंगे सी-130जे सुपर हरक्यूलिस विमान हादसे की जांच के बीच भारत अमेरिका से हासिल इन विमानों में घटिया चीनी पुर्जो वाले उपकरणों को भी बदलवा रहा है। सुपर हरक्यूलिस बेड़े के विमानों में चालक दल को उड़ान संबंधी सूचनाएं देने वाली कई मल्टी फंक्शन डिस्प्ले स्क्रीन में नकली चीनी पुर्जे पाए जाने के बाद चरणबद्ध तरीके से इन्हें बदलवाया जा रहा है। इस बीच ग्वालियर के नजदीक दुर्घटनाग्रस्त सी-130जे विमान के साथ हुए हादसे की जांच में वायुसेना इसके कलपुर्जों की खामी समेत सभी पहलुओं की पड़ताल कर रही है।

वायुसेना सूत्रों के अनुसार, अमेरिका से खरीदे गए सैन्य साजो-सामान में सस्ते चीनी कलपुर्जो लगे होने पर दो वर्ष पहले आई अमेरिकी सीनेट की रिपोर्ट को भारत ने गंभीरता से लिया था। इसके बाद अमेरिका सरकार और विमान निर्माता कंपनी लॉकहीड मार्टिन के साथ हुई पड़ताल में पता चला कि भारत द्वारा खरीदे गए सी-130जे विमानों में कुछ मल्टी फंक्शन डिस्प्ले ऐसे भी हैं, जिनमें कम गुणवत्ता के चीनी पुर्जे लगे हैं। सूत्रों के मुताबिक इसके बाद चरणबद्ध प्रक्रिया में अमेरिका को भेजकर डिस्प्ले स्क्रीन बदलवाईं जा रही हैं।

महत्वपूर्ण है कि अमेरिकी सीनेट ने 2011-12 में पेश जांच रिपोर्ट में इशारा किया था कि अमेरिका की हथियार कंपनियों के उत्पादों में करीब 10 लाख चीनी कल-पुजरे का इस्तेमाल हो रहा है। वहीं इसमें चीन की होंग डांग कंपनी से खरीदे गए पुर्जे भी शामिल हैं, जिसे नकली व घटिया सामान देने के कारण अमेरिका प्रतिबंधित कर चुका है।

मामले पर भारत द्वारा की गई तफ्तीश के बाद पता चला कि प्रतिबंधित कंपनी से खरीदे गए 84 हजार नकली पुर्जो में कई का इस्तेमाल भारत को बेचे गए सी-130जे विमानों में भी हुआ है। सूत्र बताते हैं कि वायुसेना बीते कुछ समय से चरणबद्ध क्रम में इन स्क्रीनों को बदलवा रही है। इनमें से अधिकतर बदले जा चुके हैं और केवल आखिरी बैच लौटना बाकी है।

हालांकि वायुसेना अधिकारी इस बात पर मौन हैं कि दुर्घटनाग्रस्त विमान में लगे स्क्रीन बदले जा चुके थे या नहीं। वैसे विशेषज्ञों की दलील है कि सी-130जे जैसे उन्नत विमान में समानांतर रूप से उड़ान संबंधी सूचनाएं देने के लिए पायलट, सह-पायलट व नेविगेटर के पास अलग-अलग स्क्रीन लगे होते हैं। इस बीच वायुसेना अधिकारियों ने इस बात की तस्दीक जरूर की है कि दुर्घटना की जांच में चीनी पुर्जे के इस्तेमाल समेत सभी संभावित पहलुओं की पड़ताल की जाएगी।

Posted By:

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस