नईदिल्ली। जामुन का नाम लेते ही बचपन की आपको बचपन की कुछ सुनहरी यादें ताजा हो गई होगी। अब जामुन का सही उपयोग IIT रुड़की के वैज्ञानिकों ने किया। उन्होंने जामुन से सस्ते सौर सेल बनाने का तरीका ढूंढ निकाला है।

उन्होंने जामुन में पाए जाने वाले पिग्मेंट का यूज सस्ते फोटो सेंसिटाइजर के रूप में किया है। ग्रेटजेल सेल पतली फ़िल्म वाले सोलर सेल होते हैं, जो कि जो के प्रकाश को जल्दी एब्जार्ब कर लेते हैं।

यह शोध जर्नल ऑफ़ फोटोवोल्टेक्स में प्रकाशित किया गया। आईआईटी रुड़की में सहायक प्रोफे़सर और शोधकर्ता सौमित्रा सतपाठी ने बताया कि आईआईटी कैंपस के अंदर जामुन के पेड़ों संख्या बहुत अधिक है। इसके कारण विचार किया गया कि इसका रंग डाई के लिए संवेदनशील सौर सेल में उपयोगी साबित हो सकता है। वैज्ञानिकों ने इथेनॉल का इस्तेमाल कर जामुन से डाई निकाली।

सतपाठी ने कहा प्राकृतिक पिग्मेंट आम रूथेनियम आधारित पिग्मेंट्स की तुलना में कहीं सस्ते होते हैं।

Posted By: