Immunity to Saudi Prince: भारत ने अमेरिकी विदेश मंत्रालय के एक प्रवक्ता के बयान पर अपनी आपत्ति दर्ज करवाई थी। पिछले हफ्ते अमेरिकी विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता वेदांत पटेल से पूछा गया था कि पत्रकार जमाल खशोगी की हत्या का आदेश देने के आरोपी सऊदी प्रिंस मोहम्मद बिन सलमान को अमेरिका ने छूट क्यों दी? इस पर वेदांत पटेल ने फैसले के बचाव करते समय भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का जिक्र किया था। अब इस पर प्रतिक्रिया देते हुए भारतीय विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता अरिंदम बागची ने कहा, 'समझ से परे है कि उस समय पीएम मोदी पर टिप्पणी कैसे प्रासंगिक और जरूरी थी। भारत और अमेरिका के बीच अभी बहुत अच्छे संबंध हैं। दोनों की ताकत बढ़ रही है। हम इन रिश्तों को और गहरा करने के लिए तत्पर हैं।'

जानिए क्या कहा था अमेरिका विदेश विभाग की प्रवक्ता ने

सऊदी क्राउन प्रिंस मोहम्मद बिन सलमान के साथ प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का नाम लिए जाने का यह मामला एक हफ्ते पुराना है। तब अमेरिकी विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता वेदांत पटेल ने भारतीय प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी सहित कई राष्ट्र प्रमुखों को दी गई छूट का हवाला दिया था। दरअसल, सऊदी नेता मोहम्मद बिन सलमान पर आरोप है कि उन्होंने ही तुर्की में पत्रकार जमाल खशोगी की हत्या का आदेश दिया था।

Jamal Khashoggi: Saudis sentence five to death for journalist's murder -  BBC News

(Jamal Aḥmad Khashoggi)

क्या छूट दी है अमेरिका ने

जो बाइडेन प्रशासन ने पिछले दिनों कहा था कि सऊदी क्राउन प्रिंस मोहम्मद बिन सलमान पर अमेरिका में कोई केस नहीं चलेगा। अमेरिका के इस फैसले की खूब आलोचना भी हुई थी। एमनेस्टी इंटरनेशनल ने तो यहां तक कह दिया था कि आज खशोगी एक बार फिर मर गया। अमेरिका को शर्म आना चाहिए।

Saudi Arabia's Crown Prince Mohammed Bin Salman: Lifestyle, Spending

(Saudi leader Mohammed bin)

क्यों लिया गया था पीएम मोदी का नाम

दरअसल, अमेरिका ने गुजरात के सीएम रहने के दौरान धार्मिक स्वतंत्रता को लेकर नरेंद्र मोदी के खिलाफ यात्रा प्रतिबंध लगाया हुआ था। 2014 में भारत का प्रधानमंत्री बनने पर उन्‍हें छूट दे दी गई थी।

दिसंबर में अमेरिका दौरे पर नहीं जा रहे पीएम मोदी

इसी दौरान भारतीय विदेश मंत्रालय ने साफ कर दिया है कि पीएम मोदी का आगामी दिसंबर में अमेरिका का दौरा करने का कोई प्लान नहीं है। प्रवक्ता ने कहा कि भारत की तरफ से ऐसा कोई प्रस्ताव नहीं दिया गया है।

साथ ही बागची ने पीएम मोदी और अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडेन के बीच मुलाकात को लेकर विदेश मंत्री एस जयशंकर और व्हाइट हाउस के प्रवक्ता के हवाले से बताई जा रही खबरों को भी खारिज कर दिया।

Posted By: Arvind Dubey

Assembly elections 2021
elections 2022
  • Font Size
  • Close