नई दिल्‍ली। गुरुवार को बांग्‍लादेश की ओर से हुई फायरिंग में भारत के बीएसफ के दो जवाबन चपेट में आ गए। इनमें से एक जवान के शहीद होने की सूचना है, जबकि दूसरे का इलाज चल रहा है। बार्डर गार्ड्स ऑफ बांग्‍लादेश (BGB) ने बीएसफ पार्टी पर खुली फायरिंग शुरू कर दी। यह हमला तब किया गया जब बीएसएफ पार्टी भारत और बांग्‍लादेश की सीमा पर पश्चिम बंगाल में भारतीय मछुआरों का पता लगा रहे थे। बुलेट की चोट सिर में लगने से प्रधान आरक्षक विजय सिंह की मौत हो गई है। अन्‍य जवान को हाथ में चोट आई है। हेड कांस्टेबल विजय भान सिंह ने इलाज के दौरान दम तोड़ दिया, उन्हें मृत घोषित कर दिया गया। घायल कांस्टेबल को मुर्शिदाबाद मेडिकल कॉलेज और अस्पताल बेहरामपुर ले जाया गया है।

बीएसएफ के अनुसार, तीन भारतीय मछुआरे गुरुवार की सुबह पदमा नदी में फिशिंग के लिए गए थे। वहां से दो मछुआरे काकमेरिचर स्थित बीएसएफ पोस्‍ट पर गए और बताया कि बीजीबी ने उनकी धरपकड़ की है। सुबह साढ़े दस बजे पोस्‍ट कमांडर ने बीजीबी पेट्रोल पार्टी से संपर्क किया।

फ्लैग मीटिंग के दौरान बीजीबी ने भारतीय मछुआरों को रिहा नहीं किया। स्थिति बिगड़ती गई और जैसे ही बीएसएफ पार्टी रवाना हुई, बीजीबी ने उन पर पीछे से फायरिंग शुरू कर दी। पिछले दो दशकों में ऐसी कोई घटना नहीं हुई है। बीजीबी के अधिकारियों से इस संबंध में संपर्क साधा जा रहा है और वरिष्‍ठ अधिकारी मौके पर पहुंच गए हैं।

Posted By: Navodit Saktawat