Telangana News: भारत की सबसे बड़ी तैरती सौर ऊर्जा परियोजना पूरी तरह से चालू हो गई है। एनटीपीसी ने स्टॉक एक्सचेंज को एक नियामक फाइलिंग में बताया कि तेलंगाना के रामागुंडम फ्लोटिंग सोलर पीवी परियोजना शुरू की गई है। इसके साथ ही एनटीपीसी की सिंगल आधार पर स्थापित व वाणिज्यिक क्षमता 54,769.20 मेगावाट है। वहीं समूह की क्षमता 69,134.20 मेगावाट हो गई है। इस प्रोजेक्ट से 100 मेगावाट बिजली मिलेगी।

500 एकड़ में फैली परियोजना

इस पावर प्रोजेक्ट के शुरू होने से दक्षिण भारत में तैरती सौर क्षमता का वाणिज्यिक उत्पादन बढ़कर 217 मेगावाट हो गया। रामागुंडम में 100 मेगावाट की फ्लोटिंग सोलर परियोजना हाई टेक्नोलॉजी के साथ पर्यावरण के अनुकूल है। भेल के माध्यम से अनुबंध के रूप में 423 करोड़ की लागत से तैयार यह परियोजना 500 एकड़ क्षेत्र में फैली हुई है।

40 खंडों में बांटा गया

इस परियोजना को 40 खंडों में बांटा गया है। हर खंड 2.5 मेगावाट बिजली तैयार करता है। सौर पैनलों से हर साल करीब 32.5 लाख क्यूबिट मीटर पानी के वाष्पीकरण पर रोक लगेगी। साथ ही सिस्टम जलनिकाय सौर मॉड्यूल के तापमान को संतुलित बनाए रखेगा। अधिकारियों ने कहा कि सौर मॉड्यूल के नीचे का जल निकाय उनके परिवेश के टेम्परेचर को बनाए रखने में सहायता करता है। जिससे उत्पादन में सुधार होता है। वहीं हर साल 2,10,000 टन के कार्बन डाय ऑक्साइड उत्सर्जन से बचा जा सकता है।

Posted By: Shailendra Kumar

  • Font Size
  • Close