नई दिल्ली। देश में चिलचिलाती गर्मी और झुलसा देने वाली तपन के बीच मौसम विभाग ने बड़ी राहत भरी खबर दी है। भारतीय मौसम विभाग के अनुसार अगले 24 घंटे में मानसून केरल पहुंच जाएगा। हालांकि, यह फिर भी इसके तय समय से 8 दिन देरी से केरल पहुंच रहा है।

केरल पहुंचने के बाद धीर-धीरे यह आगे बढ़ेगा और 14-15 तारीख तक महाराष्ट्र और फिर 20-22 जून तक मध्यप्रदेश पहुंचेगा। अगर बात राजधानी दिल्ली की करें तो यह जुलाई के पहले हफ्ते में दिल्ली पहुंचेगा।

वहीं मौसम की भविष्यवाणी करने वाल एजेंसी स्काईमेट ने भी कहा है कि मानसून 8 जून तक केरल पहुंचेगा। वरिष्ठ वैज्ञानिक समर चौधरी ने बताया, "दिल्ली और आसपास के क्षेत्रों में मानसून पहुंचने की सामान्य तिथियां जून के आखिरी हफ्ते में पड़ती हैं। लेकिन इस बार यह करीब 10-15 दिन की देरी से यहां पहुंचेगा।

अल नीनो और ग्लोबल वॉर्मिंग की वजह से इस साल मानसून कमजोर रहेगा। हमें उम्मीद है कि मानसून की बारिश करीब 93 प्रतिशत रहेगी जो औसत से कम है।"

वहीं, भारतीय मौसम विभाग का अनुमान है कि इस साल मानसून बिल्कुल सामान्य रहेगा। भारतीय मौसम विभाग 96 से 104 प्रतिशत बारिश को औसत या सामान्य मानता है। इसकी गणना वह जून से प्रारंभ होने वाले चार महीनों में पिछले 50 साल की औसत 89 सेंटीमीटर बारिश से करता है।

समर चौधरी ने आगे कहा, "पिछले 65 साल में यह दूसरा सबसे सूखा साल है। सामान्य मानसून पूर्व बारिश 131.5 मिमी है जबकि अब तक यह सिर्फ 99 मिमी रिकॉर्ड की गई है। अल नीनो प्रभाव की वजह से यह स्थिति बनी है और यह मानसूनी बारिश पर भी असर डालेगा। नमी लाने वाली पुरबिया हवाओं ने उत्तर भारतीय राज्यों में बढ़ते तापमान को नियंत्रण में रखा है, लेकिन गर्म हवाओं की वजह से तापमान में फिर वृद्धि होगी।"

Posted By: Ajay Barve