VL-SRSAM: भारत ने शुक्रवार को ओडिशा में चांदीपुर तट पर नौसेना के जहाज से वर्टिकल लॉन्च शॉर्ट रेंज सरफेस टू एयर मिसाइल का सफल परीक्षण किया। वीएल-एसआरएसएएम, जहाज से चलने वाली हथियार प्रणाली है, जो समुद्री-स्किमिंग टारगेट सहित निकट सीमा पर हवाई खतरों को बेअसर करने में सक्षम है। सिस्टाम का प्रक्षेपण एक उच्च गति वाले हवाई लक्ष्य वाले विमान के खिलाफ किया गया, जो सफलतापूर्वक लगा। परीक्षण प्रेक्षण की निगरानी डीआरडीओ और भारतीय नौसेना के सीनियर अधिकारियों ने की।

रक्षा मंत्री ने दी टीम को बधाई

रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने डीआरडीओ और भारतीय नौसेना को सफल उड़ान परीक्षण के लिए बधाई दी। कहा कि सिस्टम ने कवच जोड़ा है। यह हवाई खतरों के खिलाफ नेवी के जहाजों की रक्षा क्षमता को अधिक बढ़ाएगा।

मिसाइल रक्षात्मक क्षमताओं को मजबूत करेगी

नौसेना प्रमुख, एडमिरल आर हरि कुमार ने वीएल-एसआरएसएएम के सफल उड़ान परीक्षण के लिए इंडियन नेवी और डीआरडीओ की सराहना की। कहा कि इस स्वदेशी मिसाइल प्रणाली के विकास से रक्षात्मक क्षमताओं को और मजबूती मिलेगी।

आत्मनिर्भर भारत की दिशा में बड़ा कदम

डीआरडीओ अध्यक्ष डॉ. जी सतीश रेड्डी ने कहा कि इस परीक्षण ने नौसेना के जहाजों पर स्वदेशी हथियार प्रणाली के एकीकरण को साबित कर दिया है। उन्होंने कहा, 'यह आत्मनिर्भर भारत के दृष्टिकोण की दिशा में एक और मील का पत्थर है।'

Posted By:

  • Font Size
  • Close