नई दिल्ली। इंडियन रेलवे अब सेवानिवृत्त सैन्यकर्मियों को संपत्तियों की सुरक्षा के लिए तैनात करेगा। इससे पहले रेलवे बोर्ड ने जोनों के जनरल मैनेजर को इस बात के अधिकार दे रखे थे कि जहां पर आरपीएफ जवान तैनात नहीं हों वहां पर सुविधानुसार सरकारी सुरक्षा एजेंसियों जैसे होमगार्ड और महाराष्ट्र औद्योगिक सुरक्षा बल की सेवाएं ली जा सकती हैं।

18 जुलाई को रेलवे बोर्ड द्वारा जारी किए गए नए आदेश के अनुसार सैनिक कल्याण बोर्ड के माध्यम से अब रेलवे संपत्ति की सुरक्षा के लिए पूर्व सैन्यकर्मियों को भी तैनात करने का आदेश दिया गया है। महाप्रबंधक इन्हें गर्मियों के दौरान, त्योहारों के मौसम में या आवश्यकतानुसार नियुक्त कर सकते हैं। आधिकारिक आंकड़ों के मुताबिक 76,563 सी और डी-स्तरीय आरपीएफ और आरपीएसएफ (रेलवे सुरक्षा विशेष बल) के जवान रेलवे में काम कर रहे हैं। यह स्वीकृति संख्या से 15 फीसद कम है।