नई दिल्‍ली। प्रवासियों और सामान्‍य लोगों के आवागमन को लेकर रेल और गृह मंत्रालय की शनिवार को संयुक्‍त प्रेस काफ्रेंस का आयोजन किया गया। रेलवे बोर्ड के अध्‍यक्ष विनोद कुमार यादव ने बताया कि भारतीय रेलवे ने एक मई को श्रमिक स्पेशल ट्रेनें शुरू की। इनमें सभी यात्रियों को मुफ्त भोजन और पीने का पानी उपलब्ध कराया जा रहा है। ट्रेनों और स्टेशनों में शारीरिक दूरी और स्वच्छता प्रोटोकॉल का ख्याल रखा जा रहा है। 80 फीसद ट्रेन यात्राएं उत्तर प्रदेश और बिहार के प्रवासी मजदूरों द्वारा की गई हैं।

उन्‍होंने बताया कि वेटिंग लिस्ट इसलिए दिया क्योंकि पहले ट्रेनों में देखा गया कि कुछ लोग ट्रेन खुलने के समय टिकट कैंसल कर रहे थे। अब वेटिंग लिस्ट की व्यवस्था होने की वजह से कैंसल टिकटों से खाली बर्थ को बाकी लोगों से भरा जाएगा।

उन्‍होंने बताया कि हमने सिर्फ कंफर्म टिकट से ही यात्रा की अनुमति दी है। साथ ही एनरूट टिकट का बिल्कुल मना किया है। रास्ते में किसी यात्री को सवार होने की अनुमति नहीं है, इसलिए आरएसी टिकट के कंफर्म होने की पूरी संभावना है।

विनोद कुमार यादव ने बताया कि लॉकडाउन से पहले जो टिकट की कीमत थी, आज भी वही है। किसी टिकट पर एक भी पैसा ज्यादा नहीं लिया जा रहा है। लॉकडाउन से पहले कुछ छूटों पर रोक लगा दी गई थी, वही व्यवस्था आज भी लागू है।

विनोद कुमार यादव ने बताया कि हमने 5,000 रेल कोच को 80,000 बिस्तरों वाले COVID केयर सेंटर के रूप में बदल दिया था। चूंकि इनमें से कुछ का अभी उपयोग नहीं किया जा रहा था इसलिए हमने इनमें से 50 फीसद कोचों को श्रमिक विशेष ट्रेनों के लिए उपयोग किया। जरूरत पड़ने पर उन्हें फिर से कोरेाना वायरस के मरीजों के देखभाल के लिए उपयोग किया जाएगा।

Posted By: Yogendra Sharma

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

जीतेगा भारत हारेगा कोरोना
जीतेगा भारत हारेगा कोरोना