नई दिल्ली। देश में निर्मित हुए हल्के लड़ाकू विमान तेजस में आज रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह उड़ान भर रहे हैं। देश की वायुसेना को मजबूती देने वाले तेजस विमान को तीन साल पहले भारतीय वायुसेना में शामिल किया गया था। जल्द ही तेजस का अपग्रेड वर्जन भी आने वाला है। तेजस विमान की खासियत इसे पारंपरिक विमानों से अलग बनाती है। यह स्वदेशी मल्टीरोल फाइटर जेट है। इस विमान में दुश्मन के रडार को चकमा देने की भी क्षमता है।

यह है तेजस विमान की खासियत

- तेजस विमान हवा से हवा में, हवा से जमीन पर मिसाइल दाग सकता है

- तेजस एक लाइट कांबैट एयरक्राफ्ट है, इसकी सर्वाधिक स्पीड 1.6 मैक है

- 2000 KM की रेंज को कवर करने वाले तेजस का अधिकतम थ्रस्ट 9163 KGF है

- इसमें ग्लास कॉकपिट,कंपोजिट स्ट्रक्चर,हैलमेट माउंटेड डिस्प्ले, मल्टी मोड रडार और फ्लाई बाई वायर डिजिटल सिस्टम जैसे आधुनिक फीचर मौजूद हैं

- तेजस का इस्तेमाल नौसेना और वायुसेना दोनों सेनाओं में किया जाएगा

-तेजस43% एल्यूमीनियम एलॉय, 42% कार्बन फाइबर और टाइटेनियम से बनाया गया है

- तेजस सिंगल सीटर पायलट विमान है, लेकिन इसका ट्रेनर वेरिएंट 2 सीटर है

- एक बार में तेजस 54 हजार फीट की ऊंचाई तक उड़ान भर सकता है

- तेजस विमान 13 टन वजन लेकर उड़ान भरने में सक्षम हैं

रक्षा मंत्री ने बेंगलुरु से भरी उड़ान

राजनाथ सिंह देश के पहले रक्षामंत्री बन गए हैं जो तेजस लड़ाकू विमान में उड़ान भरेंगे। तेजस विमान के आधुनिक फीचर्स चीन के थंडरबर्ड से भी ज्यादा बेहतरीन माने जाते हैं।

Posted By: Neeraj Vyas

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

जीतेगा भारत हारेगा कोरोना
जीतेगा भारत हारेगा कोरोना