नई दिल्ली Union Cabinet Reshuffle। केंद्रीय कैबिनेट में विस्तार से पहले बिहार में सियासी पारा चढ़ने लगा है। अब मुख्यमंत्री नीतीश कुमार की पार्टी जनता दल यूनाइटेड भी केंद्रीय कैबिनेट में जगह चाहती है और जदयू अध्यक्ष आरसीपी सिंह के बयान ने सियासी हलचल तेज कर दी है। आरसीपी सिंह ने कहा है कि एनडीए के साथियों को सम्मान के साथ मंत्रिमंडल में स्थान दिया जाना चाहिए। आरसीपी सिंह ने शनिवार को पत्रकारों से चर्चा करते हुए कहा कि ऐसा पता चला है कि केंद्रीय मंत्रिमंडल का विस्तार होने जा रहा है। जदयू एनडीए का हिस्सा है। ऐसे में मंत्रिमंडल के विस्तार में जदयू को भी जगह मिलना चाहिए।

प्रधानमंत्री कर रहे हैं मंत्रियों के काम की समीक्षा

गौरतलब है कि सियासी गलियारों में यह चर्चा इन दिनों गर्म है कि संसद के मानसून सत्र के पहले केंद्रीय मंत्रिमंडल में विस्ता हो सकता है और इस संबंध में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी अपने मंत्रियों के कामकाज की समीक्षा कर रहे हैं। इसी के चलते अब जेडीयू भी सक्रिय हो गई है और अध्यक्ष आरसीपी सिंह ने कहा कि केंद्रीय मंत्रिमंडल में जेडीयू को भी हिस्सेदारी मिलनी चाहिए।

इधर तेजप्रताप की जीतन राम मांझी की मुलाकात

इधर शुक्रवार को इससे RJD नेता तेजप्रताप यादव ने पूर्व मुख्यमंत्री जीतन राम मांझी से मुलाकात करके सभी को चौंका दिया है। सियासी गलियारे में इस मुलाकात के अलग-अलग मतलब निकाले जा रहे हैं। इससे पहले जीतन राम मांझी ने लालू प्रसाद और राबड़ी देवी को शादी के सालगिरह पर बधाई दी थी।

जीतन राम मांझी की तेजप्रताप यादव के साथ मुलाकात पर भाजपा सांसद सुशील कुमार मोदी ने कहा है कि मांझी एनडीए के वरिष्ठ नेता है, इसलिए किसी जनप्रतिनिधि की उनसे शिष्टाचार भेंट का राजनीतिक मायने इतनी जल्दी नहीं निकाले जाने चाहिए। सुशील मोदी ने कहा कि मांझी किसी एक जाति के नहीं, बल्कि बिहार में दलितों के सबसे बड़े नेता हैं। उन्होंने राजद का कुशासन भी देखा है।

Posted By: Sandeep Chourey