रुद्रप्रयाग। पिछले आठ महीनों के प्रयासों के बाद देश के सबसे बड़ा मालवाहक हेलिकॉप्‍टर एमआई-26 ने समुद्र तल से 11 हजार 660 फीट की ऊंचाई पर केदारनाथ में सफलतापूर्वक लैंडिंग की। इतनी ऊंचाई पर कोई दूसरा हेलीपैड नहीं है, ऐसे में यह एक नया कीर्तिमान भी है। केदारनाथ के रुद्रप्रयाग जिले में नए बनाए गए हैलीपैड पर हेलिकॉप्‍टर को उतारा गया।

मंगलवार सुबह जब हेलिकॉप्‍टर की लैंडिंग कराई गई, उस वक्‍त वहां का तापमान माइनस 4 डिग्री सेल्सियस था। साल 2013 में यहां आई भयानक बाढ़ के बाद से ही अधिकारी और कर्मचारी इलाके के पुनर्निर्माण में लगे हुए थे। मालवाहक विमान की केदारनाथ में लैंडिंग के बाद भारी मशीनों और ट्रकों को वहां पहुंचाने में मदद मिलेगी, जिससे पुनर्निर्माण के काम में तेजी आएगी।

दरअसल, उत्‍तराखंड सरकार ने वायुसेना के साथ एक समझौता किया है, जिसके तहत कुल 125 टन तक के भारी मशीनों और वाहनों को गुंचर के बेस स्‍टेशन से केदारनाथ ले जाया जा सकेगा। रूसी हेलिकॉप्‍टर एमआई-26 देश का एकमात्र रोटरक्राफ्ट है, जो टनों वजन उठा सकता है। भौगोलिक दृष्‍िट से इस संवेदनशील जगह पर पांच ट्रक, दो अर्थ मूवर्स, एक हाइड्रालिफ्ट क्रेन और दो स्‍नो ब्‍लोअर्स पहुंचाए जाने हैं।

नेहरू इंस्‍टीट्यूट ऑफ माउंटेनिंग (निम) एजेंसी के अधिकारी क्षेत्र में 90 फीसद से अधिक पुनर्निर्माण कार्य कर रहे हैं। संस्‍थान के प्रिंसिपल कर्नल अजय कोठियाल ने बताया कि मंगलवार की ट्रायल लैंडिंग सफल रही है। इससे यहां भारी वाहनों और मशीनों के पहुंचाए जाने का रास्‍ता साफ हो गया है। अभी तक यहां काम मैनुअली किया जाता है, जिसमें समय अधिक लगता था और काम की रफ्तार धीमी रहती थी।

उत्‍तराखंड में आई मानसून की बाढ़ और भूस्‍खलन में पांच हजार लोगों की मौत हो गई थी। मंदाकिनी नदी ने अपने बहाव के रास्‍ते में पड़ने वाले रामबारा, गौरीकुंड के एक हिस्‍से और केदरनाथ की पूरी बस्‍ती को बर्बाद कर दिया था।

Posted By:

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

जीतेगा भारत हारेगा कोरोना
जीतेगा भारत हारेगा कोरोना