जोधपुर, 12 अगस्त। जोधपुर के जाये जन्मे चिराग सोनी माहेष्वरी की नियुक्ति गूगल में हुई है। नियुक्ति के बाद चिराग के जोधपुर पहुंचने पर परिवारजन एवं मित्रों ने चिराग को फूल-मालाओं से लाद दिया। एक बेहद ही साधारण परिवार में जन्मे चिराग सोनी जोधपुर के ओसियां क्षेत्र के मूल निवासी हैं और अब गूगल में सवा तीन करोड़ के पैकेज पर नियुक्ति होने के बाद जोधपुर का नाम को गौरवान्वित कर रहे हैं। चिराग सोनी गूगल के हिंदी फोनेटिक वर्जन में काम करेंगे।

आईआईटी पटना से कम्प्यूटर साइंस में बी.टेक. करने के बाद चिराग ने सैमसंग रिसर्च इंस्टीट्यूट दिल्ली में सॉफ्टवेयर इंजिनियर पद पर काम किया।, जिसके बाद आगे की शिक्षा के लिए चिराग अमेरिका गये। वहां यूनिवर्सिटी ऑफ वाशिंगटन से 'मास्टर ऑफ साइंस इन कम्प्यूटेशनल लिग्विस्टिक्स की डिग्री हासिल की। उसी दौरान चिराग के पास फेसबुक, अमेजॉन और माइक्रोसॉफ्ट जैसी दिग्गज कम्पनियों के जॉब ऑफर आये । बाद में विश्व की सबसे बड़ी सॉफ्टवेयर कंपनी गूगल ने चिराग को सवा तीन करोड़ के सालाना पैकेज पर सॉफ्टवेयर इंजिनियर 3 के पद पर नियुक्ति दी।

जोधपुर के ओसियां में जन्मे चिराग 3 भाई बहिनों में सबसे बड़े हैं। चिराग की प्राथमिक शिक्षा आदर्श विद्या मंदिर ओसियां से हुई।इसके बाद सोनी परिवार जोधपुर आ गया और चिराग की माध्यमिक तक की शिक्षा सेंट ऑस्टिन स्कूल में पूरी हुई। 12वीं तक की पढ़ाई रेजोनेंस कोटा से पूरी की। अपनी मेहनत और प्रतिभा के दम पर चिराग ने ये मुकाम हासिल किया है। ये उपलब्धि जोधपुर के लिए गौरव की बात है। चिराग की इस उपलब्धि पर उनके पिता गजेन्द्र सोनी एवं माता सुष्मा सोनी के साथ पूरा परिवार एवं मित्रगण अत्यंत ही प्रफुल्लित हैं।

Posted By: Shailendra Kumar

  • Font Size
  • Close