Jodhpur Railway Station: जोधपुर रेलवे स्टेशन को उच्चतम 90 अंकों के साथ प्लेटिनम रेटेड ग्रीन रेलवे स्टेशन बनने वाले भारत के पहले रेलवे स्टेशन के रूप में सम्मानित किया गया है। उत्तर पश्चिम रेलवे के वरिष्ठ जनसम्पर्क अधिकारी गोपाल शर्मा के अनुसार, जोधपुर रेलवे स्टेशन को प्लेटिनम रेटिंग हासिल करने के लिए अधिकतम 90 अंक मिले जो किसी भी रेलवे के लिए भारत में अब तक का पहला स्टेशन है। यह इंडियन ग्रीन बिल्डिंग काउंसिल - उद्योग परिसंघ (आईजीबीसी-सीआईआई) द्वारा दिया गया है। भारतीय रेलवे के पर्यावरण निदेशालय के सहयोग से आईजीबीसी-सीआईआई ने मौजूदा रेलवे स्टेशनों को पर्यावरण के अनुकूल स्टेशनों में बदलने की सुविधा के लिए ग्रीन रेलवे स्टेशनों की रेटिंग प्रणाली विकसित की है। रेटिंग प्रणाली वास्तव में जल संरक्षण, कचरे से निपटने, ऊर्जा दक्षता, जीवाश्म ईंधन के कम उपयोग, मूल्यवान सामग्रियों के उपयोग पर कम निर्भरता और रहने वालों के स्वास्थ्य और कल्याण जैसी राष्ट्रीय प्राथमिकताओं को संबोधित करती है।

जोधपुर मंडल रेल प्रबन्धक गीतिका पांडेय के निर्देशन में तथा अपर मंडल रेल प्रबन्धक(ओ पी) मनोज जैन के मार्गदर्शन में एवं सीनियर डीएमई/ईएनएचएम एवं पावर अरुण कुमार, जोधपुर रेलवे स्टेशन निदेशक नारायण लाल, एईएनएचएम अनिल कुमार एवं सभी अधिकारियों एवम कर्मचारियों के प्रयासों से जोधपुर रेलवे स्टेशन को प्लेटिनम रेटिंग हासिल हुई है।

Jodhpur Railway Station: जानिए जोधपुर रेलवे स्टेशन की खूबियां

जोधपुर रेलवे स्टेशन को सूर्य की रोशनी 90% से अधिक मिले इस तरह डिजाइन किया गया है, प्रत्येक कार्यालय क्षेत्र, बुकिंग क्षेत्र में जाली आदि का उपयोग किया है। मुख्य प्लेटफॉर्म में बफर जोन वाले पर्यावरण वास्तुशिल्प डिजाइन हैं ।स्टेशन को अधिक हवादार बनाने के लिए खुला क्षेत्र है और पर्याप्त दिन का प्रकाश प्रदान करता है। जोधपुर रेलवे ने प्लेटफार्म क्षेत्रों में हर जगह सभी पेड़ों को संरक्षित किया और वर्टिकल गार्डन स्थापित किए गये हैं। जोधपुर रेलवे स्टेशन की टीम 100% एलईडी लाइटिंग का उपयोग कर रही है, बीईई स्टार रेटेड उपकरण, सुपर कुशल एचवीएलएस पंखे, नवीकरणीय सौर ऊर्जा पूरे छत पर स्थापित किया गया है और कुल क्षमता 870 किलोवॉट है जो रेलवे स्टेशन की कुल बिजली खपत का 43% बचा रहा है। जोधपुर स्टेशन कुल 45% ऊर्जा और पानी की बचत कर रहा है जिसकी लागत लगभग 20 लाख प्रति वर्ष है। रेलवे टीम ने बायोगैस जनरेटर स्थापित किया जहां भोजन और परिदृश्य अपशिष्ट ऊर्जा में परिवर्तित और रसोई और प्रकाश व्यवस्था में बायोगैस के रूप में उपयोग किया जा रहा है जिससे प्रति वर्ष लगभग 6.5 लाख की बचत हो रही है।

जोधपुर रेलवे स्टेशन पर 3 लाख लीटर प्रतिदिन की क्षमता वाला सीवेज ट्रीटमेंट प्लांट, गीले और सूखे कचरे के लिए केंद्रीय अपशिष्ट संग्रह की उपलब्धता, स्वच्छता और रखरखाव के लिए प्रमाणित हरित उत्पाद, ऊर्जा और जल लेखा ऑडिट जैसी कई हरित पहल चल रही हैं। जो हर तीन साल में एक बार किया जाता है।

रसोई के क्षेत्रों में सौर गर्म पानी (1400 लीटर प्रति दिन) का उपयोग करते हुए, और ऊर्जा और पानी के उपयोग के लिए उप-मीटरिंग का उपयोग करते हुए, एसी वेटिंग हॉल और ताजी हवा के पंखे के साथ एकीकृत प्रतीक्षा कक्षों में सी ओ 2 सेंसर प्रदान किए गए है ।

इसके अतिरिक्त, रेलवे स्टेशन 100 प्रतिशत डिजिटल कैशलेस भुगतान, यात्रियों के लिए मुफ्त हाई स्पीड वाईफाई सुविधा, बैठने की जगह, मोबाइल और लैपटॉप चार्जिंग स्टेशन, कियोस्क, एटीवीएम मशीन, सीसीटीवी निगरानी, प्री-पेड ऑटो / टैक्सी स्टैंड के रूप में स्मार्ट यात्री सेवाएं प्रदान करता है। जोधपुर रेलवे स्टेशन की टीम ने कई नवाचारों पर काम किया जैसे आईएसओ प्रमाणन, स्थानीय और राजस्थानी सांस्कृतिक उत्पादों के लिए वोकल को प्रोत्साहित करना, स्वचालित कोच फिलिंग स्काडा सिस्टम जो काफ़ी पानी बचाता है, बोतल क्रशिंग मशीन रीसाइक्लिंग और प्लास्टिक फ्लेक्स का पुन: उपयोग करता है। स्टेशन परिसर में हर जगह ताजी हवा के प्रावधान के साथ वातानुकूलित कमरे उपलब्ध कराए गए।

कॉनकोर्स क्षेत्र में एचवीएलएस पंखे हैं जो यात्रियों के लिए आराम के साथ-साथ समग्र ऊर्जा बचत प्रदान करते हैं। टीम ने लो फ्लो वाटर फिक्स्चर, वाटरलेस यूरिनल और डुअल फ्लश सिस्टम स्थापित किया जो 20% की जल दक्षता की पुष्टि करता है। स्वचालित कोच वाशिंग प्लांट से 60% तक पानी की बचत हो रही है और टीम ईटीपी प्लांट के पानी का पुन: उपयोग कर रही है। रेलवे स्टेशन को दिव्यांगों के लिए अच्छी तरह से डिजाइन किया गया है और टीम ने इन-हाउस स्क्रैप सामग्री का उपयोग करके ट्रेनों तक आसान पहुंच के लिए फोल्डेबल रैंप डिजाइन किया है। जोधपुर रेलवे स्टेशन छत पर सौर पैनलों के साथ कवर किया गया है और गर्मी प्रभाव को कम करने के लिए पेवर ब्लॉकों का इस्तेमाल किया गया है।

Posted By: Arvind Dubey