नई दिल्‍ली। करतारपुर साहिब गुरुद्वारा जाने वाले हर श्रद्धालु से पाकिस्तान द्वारा वसूले जाने वाले 20 डॉलर की राशि को कांग्रेस ने 'जजिया कर" करार देते हुए कहा कि यह सरकार द्वारा भरा जाना चाहिए। कांग्रेस नेता मनीष तिवारी ने मंगलवार को कहा कि सेवा शुल्क के रूप में वसूली जाने वाली यह राशि भाजपा सरकार द्वारा भरी जानी चाहिए, क्योंकि यह 'खुले दर्शन" के खिलाफ है।

तिवारी ने एक ट्वीट में कहा है- यदि पाकिस्तान 23 अक्टूबर, 2019 को होने वाले समझौते में करतारपुर श्रद्धालु से 20 डॉलर शुल्क वसूली पर जोर देता है तो तो एमयूओ में ही राजग/भाजपा सरकार द्वारा उस जजिया कर को भरने की बात होनी चाहिए।

करतारपुर साहिब के दर्शन के लिए शुल्क चुकाना पवित्र अरदास में खुले दर्शन के खिलाफ है।" पंजाब के मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह ने भी पाकिस्तानी अधिकारियों से 20 डॉलर की शुल्क के प्रस्ताव पर पुनर्विचार करने का आग्रह किया है। विदेश मंत्रालय ने भी अपने एक बयान में कहा है कि प्रति श्रद्धालु 20 डॉलर सेवा शुल्क की वसूली पर पाकिस्तान का जोर देना निराशाजनक है।

भारतीय क्षेत्र में बनाए जा रहे 4.2 किलोमीटर लंबा कॉरिडोर 31 अक्टूबर तक तैयार हो जाएगा। सिख धर्म के संस्थापक गुरु नानक देवजी का इस साल 550वां प्रकाश पर्व है।

Posted By: Navodit Saktawat