Kartik Purnima 2019: अयोध्या में इस बार का कार्तिक पूर्णिमा स्नान बहुत खास होने जा रहा है। सुप्रीम कोर्ट ने राम मंदिर के पक्ष में फैसला सुनाया है, जिसका बाद यह पहला कार्तिक स्नान है। जिला प्रशासन ने सुरक्षा के लिए पुख्ता तैयारी की है। पंडितों के अनुसार, कार्तिक स्नान सोमवार शाम 4.34 बजे से शुरू होकर मंगलवार को शाम 6.42 बजे तक रहेगा। कार्तिक पूर्णिमा स्नान को सकुशल संपन्न कराने के लिए स्वच्छता के विशेष बंदोबस्त किए गए हैं। साथ ही सचल शौचालय, पीने का पानी आदि सुविधाओं के लिए भी व्यवस्था की गई है।

अधिकारियों के अनुसार, स्नान क्षेत्र में 14 एंबुलेंस भी तैनात की गई है। स्नान के साथ ही कार्तिक पूर्णिमा मेला भी लगेगा जो जोन घाट, नागेश्वरनाथ मंदिर, हनुमानगढ़ी जोन, कनक भवन जोन तक रहेगा। यहां यातायात के साथ ही भीड़ को कंट्रोल किया जाना है। अधिकारियों ने मेला क्षेत्र को 23 सेक्टर में बांटा है। पुलिस और प्रशासन के उच्च अधिकारी व्यवस्था पर पैनी नजर रखे हुए हैं। भीड़ को कंट्रोल करने के लिए रूट डायर्वजन किया गया, जो मेला समाप्ति तक प्रभावी रहेगा।

पाबंदियां सहते हुए सुरक्षातंत्र के साथ खड़े रामकोटवासी : सुप्रीम कोर्ट के फैसले के मद्देनजर रामनगरी की आम पब्लिक आजकल पाबंदियों में जी रही है, लेकिन अयोध्या का रामकोट व हनुमानगढ़ी का कुछ इलाका ऐसा है, जहां सबसे ज्यादा पाबंदियां हैं। रामकोट तो सालों से पुलिस के कड़े पहरे में है, लेकिन बीती 8 नवंबर की रात से यहां के लोगों की स्थिति नजरबंद जैसी हो गई। भीड़ प्रवेश न कर सके इसके लिए मोहल्ले की ओर आने वाले 40 छोटे-बड़े रास्ते बल्लियां लगाकर बंद कर दिए गए थे। ये रास्ते अभी भी बंद हैं। सुप्रीम कोर्ट का फैसला आने के बाद रामकोटवासी रियायत की उम्मीद लगाए बैठे हैं।

Posted By: Arvind Dubey

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

 
Show More Tags