Kerala Plane Crash: कोझिकोड में विमान दुर्घटना में दोनों पायलटों समेत 18 लोगों की मौत हो चुकी है। नागरिक उड्डयन मंत्रालय द्वारा गठित सुरक्षा विशेषज्ञों की टीम ने साल 2011 में ही कोझिकोड के करिपुर एयरपर्ट के रनवे 10 को असुरक्षित घोषित कर दिया था। विशेषज्ञों ने कहा था कि यह रनवे लैंडिंग के लिए सुरक्षित नहीं है, खासकर बारिश के मौसम में।

मेंगलोर में एयर इंडिया की फ्लाइट दुर्घटना के बाद साल 2011 में नागरिक उड्डयन मंत्रालय की सेफ्टी एडवायजरी कमेटी के सदस्य कैप्टन मोहन रंगनाथन ने यह चेतावनी दी थी। उन्होंने इस बारे में चेयरमैन को पत्र भी लिखा था। इस पर कोई ध्यान नहीं दिया गया और अब यह दुर्घटना हो गई।

कैप्टन मोहन रंगनाथन ने एक अखबार के साथ चर्चा में कहा, मैंने चेतावनी दी थी कि करिपुर एयरपोर्ट सुरक्षित नहीं है। यहां लैंडिंग नहीं होनी चाहिए, विशेषकर बारिश के दौरान। यह एक टेबल टॉप रनवे है, जिसमें ढलान है और रनवे के अंत में बफर जोन भी छोटा है।

रंगनाथन के अनुसार, टोपोग्राफी के हिसाब से रनवे के बाद 240 मीटर का बफर जोन होना चाहिए, लेकिन करिपुर में यह 90 मीटर ही है। रनवे के बाजू में भी 100 मीटर जगह होनी चाहिए, लेकिन यहां वह भी 75 मीटर ही है। इसके बावजूद इसे डायरेक्टर जनरल ऑफ सिविल एविएशन (DGCA) ने अनुमति दी है। रंगनाथन ने कहा कि कोझिकोड के रनवे नंबर 10 को तुरंत बंद करना चाह। इसके बफर जोन को भी 240 मीटर करना चाहिए।

शुक्रवार शाम दुबई से 190 लोगों के साथ आ रहा Air India Express का विमान भारी बारिश के बीच कोझिकोड एयरपोर्ट पर लैंडिंग के दौरान फिसलकर 50 फीट गहरी खाई में जा गिरा। इससे उसके दो टुकडे हो गए और दोनों पायलटों समेत 18 लोग की मौत हो गई।

Posted By: Kiran K Waikar

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

ipl 2020
ipl 2020