किसान आंदोलन के कारण उस समय पूर देश को शर्मसार होना पड़ा जब गणतंत्र दिवस के मौके पर दिल्ली में हुड़दंग मचा। वहीं 26 जनवरी की उसी घटना के दौरान इंटरनेट मीडिया पर भड़काऊ पोस्ट करने को लेकर पूर्व केंद्रीय मंत्री शशि थरूर समेत आठ लोगों पर शिकंजा सकता जा रहा है। मध्य प्रदेश के बाद अब हरियाणा में भी इनके खिलाफ देशद्रोह का केस दर्ज हुआ है। मध्य प्रदेश के बैतूल जिले के मुलताई व सारणी, होशंगाबाद जिले के शिवपुर, भोपाल के मिसरोद थाने के बाद अब हरियाणा के गुरुग्राम में भी इन्हीं आरोपितों में से सात पर केस दर्ज किया गया है।

इनके खिलाफ शिकायत: शिकायत के आधार पर पूर्व केंद्रीय मंत्री व सांसद शशि थरूर, पत्रकार राजदीप सरदेसाई, नेशनल हेराल्ड की सलाहकार संपादक मृणाल पांडेय, कौमी आवाज के संपादक जफर आगा, कारवां पत्रिका के संपादक व संस्थापक परेश नाथ, संपादक अनंत नाथ, इसके कार्यकारी संपादक विनोद के. जोस और एक अन्य के खिलाफ सामाजिक सौहार्द बिगाड़ने के मामले में राजद्रोह का केस दर्ज किया गया है। भ्रामक ट्वीट करने और उसे रिट्वीट करने के मामले में नोएडा पुलिस अब साक्ष्य जुटाने में जुटी है। इंटरनेट मीडिया और स्टेटमेंट को साक्ष्यों के रूप में जुटाया जा रहा है।

ये हैं आरोप

किसानों के ट्रैक्टर रैली के दौरान हुई हिंसा में ट्रैक्टर पलटने से किसान की मौत हुई थी। इसमें कुछ वरिष्ठ पत्रकारों ने पुलिस की गोली से किसान की मौत होने की खबर चलाकर भड़ाकाने का काम किया। बाद में दिल्ली पुलिस ने सीसीटीवी फुटेज जारी कर मामले की सच्चाई सामने ला दी। इसी आधार पर अन्य आरोपियों के खिलाफ धारा 153 ए, 153 बी, 295 ए, 298, 504, 506, 505(2), 124 ए, 120 बी एवं 34 के तहत मामला दर्ज किया गया है। जांच जारी है।

Posted By: Arvind Dubey

  • Font Size
  • Close