नई दिल्ली। भारत का दूसरा अंतरिक्ष मिशन चंद्रयान-2 को आंध्रप्रदेश के श्रीहरिकोटा स्थित सतीश धवन अंतरिक्ष केंद्र से 15 जुलाई को लॉन्च किया जाना था। तकनीकी कारणों से इसका प्रक्षेपण इसरो द्वारा रोक दिया गया है। अब जल्‍द ही इसके प्रक्षेपण की नई तारीख घोषित की जाएगी।

इसरो ने आठ जुलाई को अपनी वेबसाइट पर चंद्रयान की तस्वीरों को जारी किया था। इसकी जानकारी देते हुए इसरो के अध्यक्ष डॉक्टर के सिवान ने इंडियन इंस्टीट्यूट ऑफ स्पेस साइंस एंड टेक्नोलॉजी के सातवें दीक्षांत समारोह में कहा कि चंद्रयान-2 को प्रक्षेपण यान के साथ जोड़ दिया गया है।

चंद्रयान-2 के साथ भारत पहली बार भारत एक रोवर और लैंडर को भी भेज रहा है। यह मिशन भारत ही नहीं पूरी दुनिया के वैज्ञानिक समुदाय के लिए अहमियत रखता है क्योंकि इसे चंद्रमा के दक्षिणी ध्रुव पर भेजा जाएगा।

इस क्षेत्र में आज तक किसी भी देश ने मिशन नहीं भेजा है, लिहाजा इसके बारे में किसी को कोई जानकारी नहीं है। यहां सूर्य की किरणें सीधी नहीं पहुंचती है।

Posted By: Shashank Shekhar Bajpai