Lakhimpur Kheri Violence । उत्तर प्रदेश के लखीमपुर खीरी जिले में हुई हिंसा की घटना को लेकर कांग्रेस का एक प्रतिनिधिमंडल आज राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद से मिला। इस दौरान कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी और प्रियंका वाड्रा भी मौजूद रहे। प्रियंका इस मुद्दे को लेकर बीते कई दिनों से सक्रिय है। कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी के नेतृत्व में प्रतिनिधिमंडल सुबह 11.30 बजे राष्ट्रपति कोविंद से मुलाकात की और घटना से जुड़े तथ्यों के साथ राष्ट्रपति रामनाथ कोविंग को एक ज्ञापन दिया। इस दौरान कांग्रेस प्रतिनिधिमंडल राष्ट्रपति से किसानों की मौत के मामले पर भी चर्चा की और कांग्रेस प्रतिनिधिमंडल ने राष्ट्रपति कोविंद से केंद्रीय गृह राज्य मंत्री अजय मिश्रा को उनके पद से हटाने की भी मांग की है।

प्रतिनिधिमंडल में ये नेता शामिल

कांग्रेस के 7 सदस्यीय प्रतिनिधिमंडल में पार्टी के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी, राज्यसभा में विपक्ष के नेता मल्लिकार्जुन खड़गे, वरिष्ठ नेता एके एंटनी, गुलाम नबी आजाद, लोकसभा में कांग्रेस नेता अधीर रंजन चौधरी, पार्टी महासचिव प्रियंका गांधी और संगठन महासचिव के.सी. वेणुगोपाल हुए।

जानिए क्या है पूरा मामला

3 अक्टूबर 2021 की घटना लखीमपुर से करीब 60 किलोमीटर दूर तिकुनिया-बनबीरपुर रोड पर उस समय हुई, जब किसान उपमुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य के गृह राज्य मंत्री अजय मिश्रा के पैतृक गांव बनबीरपुर जाने का विरोध कर रहे थे। इस दौरान 4 किसान, 1 पत्रकार और 3 अन्य (जो घटना के बाद मारे गए थे) मारे गए थे। मरने वालों में दो लखीमपुर खीरी और दो पड़ोसी बहराइच जिले के थे। इस घटना में लोगों को गाड़ी से कुचलने का आरोप केंद्रीय राज्य मंत्री के बेटे पर है। गौरतलब है कि लखीमपुर में जब यह हिंसा हुई, उस दिन वह उत्तरप्रदेश सरकार के मंत्री केशव प्रसाद मौर्य के साथ लखीमपुर में बैठक कर रहे थे। सोशल मीडिया में कुछ वीडियो फुटेज में अजय मिश्रा के बेटे की संलिप्तता का दावा किया गया है, जो फिलहाल पुलिस हिरासत है।

Posted By: Sandeep Chourey