Live Parliament Monsoon Session: कोरोना वायरस महामारी के बीच संसद के मानसून सत्र का आज तीसरा दिन है। कोरोना वायरस पर चर्चा के बाद राज्यसभी की कार्यवाही गुरुवार सुबह 9 बजे तक के लिए स्थगित कर दी गई है। ऐसा माना जा रहा था कि रक्षामंत्री राजनाथ सिंह एलएसी पर चीन के साथ टकराव को लेकर राज्यसभा में आज बयान देंगे, लेकिन ऐसा नहीं हो पाया। उन्होंने इस मामले में मंगलवार को लोकसभा में बयान दिया था।

कांग्रेस सांसद आनंद शर्मा ने कहा कि कोरोना काल में सरकार ने लॉकडाउन लगाया तो उसके क्या फायदे हुए, इसके बारे में सरकार को बताना चाहिए।

6 महीनों में 28 बार घुसपैठ:

गृह मंत्रालय की तरफ से राज्यसभा में बताया गया कि पिछले 6 महीनों के दौरान भारत-चीन सीमा पर किसी तरह की घुसपैठ की रिपोर्ट नहीं है। इस साल पाकिस्तान से जम्मू-कश्मीर में 28 बार आतंकी घुसपैठ कर चुके हैं।

मनोज झा ने बाबा रामदेव पर साधा निशाना:

RJD सांसद मनोज झा ने योगगुरु बाबा रामदेव पर निशाना साधा। मनोज झा ने कहा, कोरोना काल में बाबा रामदेव ने कहा था कि उन्होंने कोरोना की दवाई बना ली है। इसकी वजह से उनकी दवाइयों की जमकर बिक्री हुई। कोरोना काल में इस तरह की बयानबाजी पर ध्यान रखना चाहिए।

स्वास्थ्य मंत्री के बयान पर हुई चर्चा:

कोरोना महामारी और सरकार द्वारा इस संबंध में उठाए गए कदमों को लेकर स्वास्थ्य मंत्री डॉ. हर्षवर्धन द्वारा दिए गए बयान पर चर्चा हुई।

राज्यसभा में उठा जासूसी का मुद्दा:

कांग्रेस सांसद केसी वेणुगोपाल ने राज्यसभा में भारतीयों की जासूसी का मुद्दा उठाया। उन्होंने कहा कि चीनी सरकार से जुड़ी हुई शिंजियान आधारित टेक कंपनी 10,000 से अधिक भारतीयों की जासूसी कर रही है। मैं सरकार से जानना चाहता हूं कि क्या उन्होंने इस पर ध्यान दिया है। यदि हां, तो क्या कार्रवाई की गई है?

लोकसभा में स्थगन प्रस्ताव:

कांग्रेस सांसद अधीर रंजन चौधरी ने राजनीतिक नेताओं और प्रमुख अधिकारियों पर चीनी जासूसी के मुद्दे पर लोकसभा में स्थगन प्रस्ताव दिया है।

राज्यसभा की कार्यवाही शुरू:

राज्यसभा की तीसरे दिन की कार्यवाही शुरू हो गई है। राज्यसभा की कार्यवाही के लिए शिवसेना सांसद संजय राउत और केंद्रीय मंत्री हरदीप सिंह पुरी और मुख्तार अब्बास नक़वी संसद में पहुंचे। रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह अब से कुछ देर बाद चीन से जारी तनाव पर बयान देंगे।

सांसदों के वेतन में 30 प्रतिशत कटौती पर विधेयक पारित:

लोकसभा ने सांसदों के वेतन में 30 फीसद कटौती से जु़ड़ा विधेयक मंगलवार को पारित कर दिया। Covid-19 से निपटने के लिए अपने वेतन में कटौती का सांसदों ने समर्थन किया। सांसद निधि को दो साल के लिए स्थगित रखने के फैसले को गलत बताते सरकार की आलोचना की गई। संसदीय कार्यमंत्री प्रल्हाद जोशी ने सोमवार को इसे सदन में पेश किया था।

Posted By: Kiran K Waikar

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

ipl 2020
ipl 2020