Thackeray vs Shinde Shiv Sena: महाराष्ट्र में सियासी घमासान जारी है। अब तक हाई प्रोफाइल ड्रामा हुआ, लेकिन तस्वीर साफ नहीं है कि आगे क्या होगा? सभी की नजर महाराष्ट्र विधानसभा के डिप्टी स्पीकर पर रही। डिप्टी स्पीकर ने आज दो बड़े कदम उठाए। पहला- उनके खिलाफ शिंदे गुट द्वारा लाए गए अविश्वास प्रस्ताव को खारिज कर दिया और दूसरा - बागी गुट के 16 विधायकों को नोटिस कर दिया गया है। उनके पास जवाब देने के लिए सोमवार शाम 5 बजे तक का मौका है। इस बीच, मुंबई से लेकर दिल्ली और गुवाहाटी तक बैठकों का दौर जारी है। उद्धव ठाकरे हर तरह का कार्ड खेल रहे हैं, वहीं संजय राउत की बयानबाजी भी जारी है। राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (NCP) और कांग्रेस भी Wait n watch की पॉलिसी अपनाए हुए हैं। भाजपा भी यही कर रही है, हालांकि अंदरखाने रणनीति पर काम पहले दिन से जारी है। पढ़िए महाराष्ट्र की सियासी उठापठक से जुड़ी हर खबर- Maharashtra Political Crisis Live Updates:

विधायक दबाव और भय के कारण चले गए: सांसद सावंत

शिवसेना सांसद अरविंद सावंत ने कहा कि यह महाराष्ट्र का दुर्भाग्य है। तब बेरोजगारी और महंगाई है, तो कुछ लोगों को केवल सत्ता में आने की चिंता है। शिवसेना प्रमुख के बिना (विद्रोही विधायक) कुछ भी नहीं है। उन्हें कोई नहीं पूछेगा। सावंत ने कहा, कुछ बागी विधायक दबाव और भय के कारण चले गए। इसलिए उन्हें इतनी दूर असम ले जाया गया।

महाराष्ट्र में सियासी हलचल के बीच शिंदे का ट्वीट

एकनाथ शिंदे ने एक ट्वीट किया है। कहा कि शिवसेना कार्यकर्ताओं को समझना चाहिए कि मैं शिवसेना और उसके कार्यकर्ताओं को महाविकास अघाडी सरकार के चंगुल से मुक्त करना चाहता हूं। मैं इसके लिए संघर्ष कर रहा हूं। यह लड़ाई पार्टी कार्यकर्ताओं की बेहतरी के लिए है।

30 जून तक गुवाहाटी में रहेंगे बागी विधायक

समाचार एजेंसी एएनआई के अनुसार एकनाथ शिंदे गुट ने होटल प्रबंधन से गुवाहाटी में अपनी बुकिंग दो और दिनों के लिए बढ़ाने को कहा है। पहले यह बुकिंग 28 जून तक थी।

स्वाभाविक गठबंधन की मांग पर उद्धव चुप थे: चिमनराव पाटिल

विधायक चिमनराव पाटिल ने कहा कि हम पिछले 30 सालों से कांग्रेस और एनपीसी से लड़ रहे हैं। हमारे क्षेत्र में कांग्रेस-एनसीपी ही मैदान में विरोधी होते हैं। अगले इलेक्शन में यही प्रतिद्वंद्वी होंगे। हमने सीएम से अनुरोध किया था कि स्वाभाविक गठबंधन होना चाहिए, लेकिन उन्होंने कभी जवाब नहीं दिया। इसलिए हमने अपने नेता एकनाथ शिंदे से इसपर कड़ा रुख अपनाने का अनुरोध किया।

महाराष्ट्र में राजनीतिक संकट पर बोले ओवैसी

महाराष्ट्र में राजनीतिक संकट पर AIMIM प्रमुख असदुद्दीन ओवैसी ने तंज कसा। उन्होंने कहा कि महा विकास अघाड़ी को इस मामले पर विचार करने दें। हम सामने आ रहे ड्रामा पर नजर रख रहे हैं। यह बंदरों का डांस लग रहा है। एक शाखा से दूसरी शाखा में कूदने वाले बंदरों की तरह काम कर रहे हैं।

कोई संगठन नहीं तोड़ रहा: बागी विधायक केसरकर

विधायक दीपक केसरकर ने कहा कि उनका संगठन कोई नहीं तोड़ रहा है। हम भी उस संगठन के सदस्य हैं, कल भी रहेंगे। जब उद्धव को हकीकत का पता चलेगा तब वो शायद ये निर्णय लें कि हमने जो किया था। वो लोगों को सही नहीं लग रहा तो हम निर्णय बदलते हैं, वो नेता हैं कुछ भी कर सकते हैं। उन्होंने कहा संजय राउत तो बात कही हम इस बारे में जरूर सोचेंगे। हमारा नाम तो शिवसेना ही है। अगर उन्हें लगता है कि उसमें कुछ नहीं जोड़ना तो हम उसको शिवसेना बोलेंगे। हम उनका आदर करेंगे। केसरकर ने आगे कहा, कोई पार्टी हमारे होटल के आवास का भुगतान नहीं कर रही है। हमारे नेता एकनाथ शिंदे ने हमें बुलाया और हम यहां आए हैं। खर्च खुद देंगे। इसके पीछे भाजपा नहीं है।

बागी विधायकों की बैठक जारी

गुवाहाटी के एक होटल में एकनाथ शिंदे की मौजूदगी में बागी विधायकों की बैठक शुरू हुई।

शिवसेना ने बालासाहेब के नाम के दुरुपयोग के खिलाफ लिखा लेटर

शिवसेना ने बालासाहेब के नाम के दुरुपयोग के खिलाफ इलेक्शन कमीशन को पत्र लिखा है। इसमें लिखा कि राज्य में एकनाथ शिंदे के नेतृत्व में कुछ विधायक पार्टी विरोधी गतिविधियां कर रहे हैं।

बाल ठाकरे के नाम का गलत इस्तेमाल करने पर करेंगे कानूनी कार्रवाई-राउत

शिवसेना की राष्ट्रीय कार्यकारिणी की बैठक के बाद संजय राउत ने कहा कि बैठक में 6 प्रस्ताव पास हुए हैं। जिन लोगों ने चाहे वे कितने भी बड़े नेता हों। जिसने शिवसेना के साथ गद्दारी या बेईमानी की है। उनपर कठोर कार्रवाई करने के सर्वाधिकार हमने एक प्रस्ताव के माध्यम से उद्धव ठाकरे को दिए हैं। उन्होंने कहा, बालासाहेब ठाकरे का नाम अगर कोई अपने राजनीतिक स्वार्थ के लिए इस्तेमाल करता है, तो हमें ये मंजूर नहीं है। उसपर कानूनी कार्रवाई की जाएगी। राउत ने कहा कि जो लोग छोड़कर गए हैं। वे शिवसेना के नाम से वोट मत मांगे। अगर मांगते हैं तो अपने खुद के पिता के नाम पर मांगे। शिवसेना के बाप बालासाहेब ठाकरे के नाम पर वोट मत मांगे।

बागी विधायकों के खिलाफ विरोध प्रदर्शन

शिवसेना कार्यकर्ताओं ने पार्टी के बागी विधायकों के खिलाफ विरोध प्रदर्शन किया। वह खारघर में पार्टी कार्यालय के बाहर पुतला फूंका।

डिप्टी स्पीकर ने खारिज किया अविश्वास प्रस्ताव

एकनाथ शिंंदे गुट के अविश्वास प्रस्ताव को महाराष्ट्र विधानसभा के डिप्टी स्पीकर ने खारिज कर दिया है। एनसीपी कोटे से डिप्‍टी स्‍पीकर बनाए गए नरहरि जिरवाल ने कहा कि उन्हें अविश्वास प्रस्ताव का नोटिस ईमेल के जरिए मिला। जबकि यह किसी विधायक द्वारा पहुंचाया जाना चाहिए था। डिप्टी स्पीकर का यह रुख बताया है कि दोनों पक्षों के बीच तनातनी अभी बढ़ने वाली है।

महाराष्ट्र के डिप्टी स्पीकर नरहरि जिरवाल

मुंबई में धारा 144

मुंबई में धारा 144 लगू कर दी गई है। शिवसैनिकों के हंगामा की आशंका के बीच यह फैसला किया गया है।

नए नाम का ऐलान करेंगे एकनाथ शिंदे

शिवसेना आज दो गुट में बंट सकती है। एकनाथ शिंदे ने अपने गुट का नाम तय कर लिया है, जिसका औपचारिक ऐलान आज किया जाएगा। शिंदे गुट ने अपने नाम 'बाला साहेब ठाकरे: शिवसेना' रखा है। आज उद्धव ठाकरे की बैठक के बाद इसकी घोषणा की जा सकती है। शिंदे गुट का कहना है कि उनके साथ 40 विधायक हैं। अपने गुट के साथ बाला साहेब ठाकरे का नाम जोड़कर शिंदे इमोशनल कोर्ड खेलना चाहेंगे।

- बागी विधायकों के खिलाफ शिवसैनिकों का गुस्सा खुलकर सामने आने लगा है। पुणे में एकनाथ शिंदे के दफ्तर पर हमला किया गया। वहीं तानाजी सावंत का दफ्तर पर भी हमले की सूचना है।

- महाराष्ट्र में उन 38 विधायकों के परिजन की सुरक्षा वापस ले ली गई है, जिन्होंने उद्धव ठाकरे सरकार के खिलाफ बगावत की है और गुवाहाटी की होटल में बैठे हैं। यह खबर सामने आने के बाद बागी गुट के मुखिया एकनाथ शिंदे ने मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे के साथ ही प्रदेश के गृह मंत्री और डीजीपी को चिट्ठी लिखी है। शिंदे ने यह चिट्ठी ट्वीट करते हुए लिखा, हमारे परिवार की सुरक्षा करना सरकार जिम्मेदारी है।

वहीं परिजन से सुरक्षा हटाए जाने के मुद्दे पर शिवसेना प्रवक्ता संजय राउत ने कहा कि सुरक्षा विधायकों को दी गई है, उनके परिवार को नहीं।

Image

Image

ImageImage

- महाराष्ट्र विधानसभा के डिप्टी स्पीकर आज शिंदे कैंप के 16 बागी विधायकों को नोटिस जारी कर सकते हैं। सरकार बचाने के लिए उद्धव ठाकरे का यह बड़ा दांव माना जा रहा है। यदि यह दांव सफल रहा तो बाजी पलट भी सकती है। वहीं उद्धव ठाकरे ने आज राष्ट्रीय कार्यकारिणी की बैठक बुलाई है। एकनाथ शिंदे के बागी होने के बाद नई कार्यकारिणी का गठन हो सकता है।

- यह साफ हो चुका है कि मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे इस्तीफा नहीं देंगे, लेकिन एकनाथ शिंदे के नेतृत्व वाली शिवसेना में विद्रोह से उत्पन्न राजनीतिक संकट के कारण विधानसभा में फ्लोर टेस्ट का सामना करेंगे। उद्धव और राकांपा प्रमुख शरद पवार के बीच शुक्रवार शाम 'मातोश्री' (उद्धव का निजी आवास) पर हुई बैठक में रणनीति पर सहमति बनी।

- भाजपा शिवसेना को खत्म करना चाहती है ताकि हिंदू वोट बंटे नहीं: शुक्रवार रात पार्टी पार्षदों को संबोधित करते हुए उद्धव ने शिंदे और भाजपा को शिवसेना कैडर और उसके मतदाताओं को छीनने की चुनौती दी। उन्होंने भाजपा पर शिवसेना को खत्म करने की कोशिश करने का भी आरोप लगाया क्योंकि वह नहीं चाहती कि हिंदू वोट बंटे।

Koo App

सियासी रचना: महाराष्ट्र का सियासी दंगल #Scripted है, और बीजेपी #uddhavthakrey के छलावे में फंस चुकी है. #Devendra_Fadnavis का सपना टूट चुका है, आंखें खुल गई हैं. उधर असम में बिस्वा सरकार का शिंदे और बागियों को अदृश्य समर्थन भी पोपट साबित हुआ है. उद्धव फिर सत्ता में बैठे हैं.. #maharashtracrisis #Sanjayraut

View attached media content

- Atul Malikram (@amg24x7) 25 June 2022

Koo App

For the first time in history of India, government in any state will fall for not supporting Hindutva. This shows Hindus are rising in #India Hindus are with you #eknathshinde #narendramodi #maharashtracrisis #MEMEOFTHEDAY

View attached media content

- Rohan (@Roan) 25 June 2022

Koo App

It is clear from this picture that... Eknath Shinde ji is not in tension and is completely sure, only chess moves are important in politics It was such a trick by laying the chessboard that .... Looks like he was defeated in the very first move. #MaharashtraPoliticalCrisis

View attached media content

- @JayantaBhattacharya (@jayantabhattacharya) 25 June 2022

Koo App

#maharashtracrisis "किसी को कभी ये नहीं सोचना चाहिए कि मेरे बिना किसी का काम नहीं चलेगा. ये दुनिया तो ताश के खेल जैसी है. ज़रूरत पड़ने पर लोग जोकर को बादशाह बना लेते हैं. "

- sunil singh (@sunil_singh4U8RH) 25 June 2022

Posted By: Arvind Dubey

  • Font Size
  • Close