LNJP Study on Omicron Variant in Delhi: दिल्ली में पिछले 8-10 दिनों में कोरोना के मामलों में लगातार बढ़ोतरी देखी जा रही है। शुक्रवार को राजधानी में कोरोना वायरस संक्रमण के 2,136 नए केस सामने आए और इसकी वजह से 10 मरीजों की मौत हो गई। यहां संक्रमण दर बढ़कर 15.02 प्रतिशत हो चुकी है। इसकी भयावहता का अंदाजा इसी से लगाया जा सकता है कि पिछले 5 दिनों में 37 मरीजों की मौत हो चुकी है। LNJP के डॉक्टरों ने बढ़ते मामलों की स्टडी की, तो पता चला कि दिल्ली में ओमिक्रॉन (Omicron) का सब-वेरिएंट विशेष रुप से सक्रिय है। अस्पताल में भर्ती आधे से अधिक मरीजों में यही वेरिएंट पाया गया है। एलएनजेपी अस्पताल एमडी डॉक्टर सुरेश कुमार (Dr Suresh Kumar) ने खुद इसकी जानकारी दी।

क्या कहती है स्टडी?

डॉक्टर सुरेश कुमार ने बताया कि 'हमने अध्ययन किया कि वर्तमान में दिल्ली में ओमिक्रॉन का कौन सा वेरिएंट सक्रिय है। विश्लेषण किए गए नमूनों में से 50 प्रतिशत बीए 2.75 सब वेरिएंट के लिए पॉजिटिव निकले। ये अभी संक्रमण का प्रमुख कारण है, जो अन्य प्रकारों की तुलना में तेजी से फैल रहा है।' यानी ओमिक्रॉन के इस वेरिएंट की वजह से मरीजों की संख्या में लगातर उछाल देखा जा रहा है। राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली में 1 से 10 अगस्त तक कोरोना संक्रमण के लगभग 20,000 मामले दर्ज किए गए। इनमें से आधे से ज्यादा सैंपल्स में ओमिक्रॉन सब-वेरिएंट BA2.75 ही पाया गया।

ये लगातार 10वां दिन है, जब शहर में एक दिन में 2,000 से अधिक कोरोना वायरस संक्रमण के केस दर्ज किए गए हैं। आपको बता दें कि ये वेरिएंट सबसे पहले भारत में ही मिला था। इसके बाद 20 देशों में इसके मामले सामने आए। अब राजधानी दिल्ली में ये बढ़ते संक्रमण की प्रमुख वजह बन गया है। डॉक्टरों ने मुताबिक Covid-19 मामलों में ताजा उछाल इस बात का संकेत हो सकता है कि वायरस एक खास स्थिति की ओर जा रहा है।

Posted By: Shailendra Kumar

  • Font Size
  • Close