मल्टीमीडिया डेस्क। महाराष्ट्र और हरियाणा में विधानसभा चुनाव के लिए मतदान जारी है। चुनाव आयोग ने मतदाताओं को जागरूक करने के लिए अपने स्तर पर कई प्रयास किए हैं। खासतौर पर पहली बार वोटिंग करने वालों को यह बताया गया है कि वे ईवीएम और वीवीपैट का इस्तेमाल कैसे करें।

ऐसे करें वोट...

-बताते चलें कि, ईवीएम पर सभी उम्मीदवारों के नाम, चुनाव चिह्न और फोटो लगे होते हैं। प्रत्येक प्रत्याशी के सामने एक तीर का निशान और एक नीला बटन दिया जाता है। मतदाता अपना वोट अपने पसंद के प्रत्याशी के नाम के सामने नीले बटन को दबाकर दे सकता है।

-नीले बटन को दबाने पर तीर के निशान पर लाल बत्ती जलेगी, तब वीवीपैट से पेपर स्लिप सात सेकंड तक आपके उम्मीदवार का सरल क्रमांक, नाम व चुनाव चिह्न दिखाई देगा। बीप (सीटी) की लंबी आवाज आती है। इसका मतलब यह है कि आपने ठीक तरीके से मतदान कर दिया है।

-किसी स्थिति में यदि लाल बत्ती नहीं जलती है तो नीला बटन ठीक से दबाइए। असुविधा की स्थिति में वहां मौजूद चुनाव आयोग के अधिकारी से संपर्क कर सकते हैं। मशीन द्वारा मतदान पूर्णतः गोपनीय तथा सुरक्षित भी है।

वीपीपैट...

वोटर वेरीफाएबल पेपर ऑडिट (वीपीपैट) ट्रेल एक ऐसी मशीन है, जो मतदान के वक्त ईवीएम के साथ यूज होती है। वोट डालने के तुरंत बाद वीवीपैट मशीन में से एक पर्ची निकलती है। पर्ची पर उम्मीदवार का नाम और उसकी पार्टी का चिह्न छपा होता है। यह व्यवस्था इसलिए की गई है ताकि किसी तरह का विवाद होने पर ईवीएम में पड़े वोट के साथ पर्ची का मिलान किया जा सके।

पोस्टल बैलट सर्विस या प्रॉक्सी वोट का मतलब...

एनआरआई मतदाता प्रॉक्सी वोटिंग के जरिए मतदान कर सकते हैं। वहीं, भारतीय सेना, नौसेना और वायु सेना, सीमा सुरक्षा बल, भारत-तिब्बत सीमा पुलिस, असम राइफल्स, राष्ट्रीय सुरक्षा गार्ड, केंद्रीय रिजर्व पुलिस बल, केंद्रीय औद्योगिक सुरक्षा बल और सशस्त्र सीमा बल और जनरल रिजर्व इंजीनियर फोर्स (सीमा सड़क संगठन) सर्विस वोटर्स के रूप में पंजीकृत होने के योग्य हैं। इस तरह वे पोस्टल बैलट सर्विस या प्रॉक्सी वोट के जरिये मदतान कर सकते हैं।

Posted By: Navodit Saktawat