Maharashtra-Karnataka Border Row: कर्नाटक और महाराष्ट्र के बीच चल रहे सीमा विवाद ने अब उग्र रूप धारण कर लिया है। कर्नाटक के बेलगावी के हीरे बागेवाड़ी में रक्षण वेदिके के कार्यकर्ताओं ने जमकर प्रदर्शन किया और महाराष्ट्र की नंबर लगी ट्रकों पर पथराव किया गया। भीड़ को शांत करने के लिए पुलिस को काफी मशक्कत करनी पड़ी। इन घटनाओं को लेकर महाराष्ट्र के उपमुख्यमंत्री देवेन्द्र फडणवीस ने कर्नाटक CM से बात कर बेलगावी के पास हिरेबगवाड़ी में हुई घटनाओं पर नाराजगी व्यक्त की। मिली जानकारी के मुताबिक CM बोम्मई ने आश्वासन दिया है कि दोषियों के खिलाफ सख्त कार्रवाई होगी और महाराष्ट्र से आने वाले वाहनों की सुरक्षा होगी। वहीं एनसीपी चीफ शरद पवार ने भी इस मामले को लेकर चिंता जाहिर की है और प्रदेश के सभी सांसदों -विधायकों से एकजुटता की अपील की है।

देखिये प्रदर्शन का वीडियो

गंभीर होता जा रहा है मामला

मंगलवार को बागेवाड़ी में कर्नाटक रक्षण वेदिके के कार्यकर्ताओं ने जमकर प्रदर्शन किया और उन ट्रकों को रोका जिन पर महाराष्ट्र की नंबर प्लेट लगी हुई थी. कुछ ट्रकों पर पथराव भी किया गया। इस दौरान पुलिस ने प्रदर्शन कर रहे कुछ कार्यकर्ताओं को हिरासत में ले लिया। इस बीच पूरे विवाद को लेकर कर्नाटक के मुख्यमंत्री बसवराज बोम्मई ने बड़ा बयान देते हुए कहा कि राज्य और जनता के हितों की पूरी तरह से रक्षा की जाएगी।

मंत्रियों ने रद्द किया दौरा

रक्षण वेदिके के प्रदर्शन और तनाव की आशंका के चलते महाराष्ट्र के दो मंत्रियों ने अपने बेलगावी के दौरे को निरस्त कर दिया है। एकनाथ शिंदे सरकार के मंत्री चंद्रकांत पाटिल और शंभूराज देसाई कर्नाटक जानेवाले थे। ये लोग बेलगावी में 850 गांवों के मराठी भाषियों से बात करने जा रहे थे और उन्हें इस बात की जानकारी देने वाले थे कि एकनाथ शिंदे सरकार ने उनके लिए पैकेज का ऐलान किया है। इन दोनों मंत्रियों की महाराष्ट्र एकीकरण समिति के कार्यकर्ताओं से मुलाकात होनी थी। आपको बता दें कि बेलगावी जिले के मराठी भाषी क्षेत्र पर महाराष्ट्र अपना दावा करता रहा है। इस संबंध में केस सुप्रीम कोर्ट में लंबित है। इस पूरे विवाद के निपटारे के लिए महाराष्ट्र सरकार ने एक समन्वय समिति का गठन किया है, जिसमें चंद्रकांत पाटिल और शंभूराज देसाई शामिल हैं।

Posted By: Shailendra Kumar

  • Font Size
  • Close