Maharashtra Political Crisis: महाराष्‍ट्र की राजनीति में फिर से हलचल मच गई है। महाराष्ट्र में चल रहे राजनीतिक घटनाक्रम को लेकर राकांपा नेताओं की बैठक संपन्न हुई।वर्तमान राजनीतिक घटनाक्रम पर कांग्रेस नेताओं की सह्याद्री गेस्ट हाउस मुंबई में आयोजित बैठक में एचके पाटिल, एआईसीसी प्रभारी- महाराष्ट्र, राज्य पार्टी अध्यक्ष नाना पटोले और अन्य शामिल रहे। मुंबई में पार्टी की बैठक के बाद महाराष्ट्र कांग्रेस प्रमुख नाना पटोले बोले कि अगर समय आता है तो हम महा विकास अघाड़ी सरकार को बाहर से भी समर्थन दे सकते हैं। यह हमारी नियमित बैठक थी और शिवसेना नेता संजय राउत के बयान पर नहीं हुई। महाराष्ट्र कांग्रेस नेता अशोक चव्हाण ने कहा कि 2019 में भाजपा को (सत्ता में आने से) रोकने के लिए साझा न्यूनतम कार्यक्रम पर महा विकास अघाड़ी का गठन किया गया। कांग्रेस अभी भी उस पर कायम है और महा विकास अघाड़ी के लिए हमारा समर्थन जारी है।

कांग्रेस ने महा राजनीतिक संकट के लिए भाजपा को जिम्मेदार ठहराया, कहा कि वह राष्ट्रपति चुनाव से पहले 'मजबूत' एमवीए सरकार को गिराना चाहती है। एनसीपी नेता प्रफुल्ल पटेल महाराष्ट्र में चल रहे राजनीतिक घटनाक्रम को लेकर पार्टी विधायकों की बैठक के लिए वाईबी चव्हाण केंद्र पहुंचे। बैठक में पार्टी अध्यक्ष शरद पवार भी शामिल हुए।

महाराष्ट्र कांग्रेस अध्यक्ष नाना पटोले ने कहा कि भाजपा सरकार को अस्थिर करने की कोशिश कर रही है, भाजपा शिवसेना को विभाजित करने की कोशिश कर रही है। हम इस पर काम कर रहे हैं कि इसे कैसे सुलझाया जाए ... महा विकास अघाड़ी सरकार जारी रहेगी और 5 साल पूरे करेगी। हम स्थिति पर नजर बनाए हुए हैं। कांग्रेस एमवीए के साथ खड़ी है। दूसरी तरफ, राकांपा नेता और महाराष्ट्र के डिप्टी सीएम अजीत पवार ने कहा कि हम अंत तक उद्धव ठाकरे जी के साथ खड़े रहेंगे। हम मौजूदा राजनीतिक स्थिति पर नजर रख रहे हैं।

Posted By: Navodit Saktawat

  • Font Size
  • Close